Top

Shahjahanpur Crime News: दवा कारोबारी ने कर्ज के चलते पत्नी, दो बच्चों सहित फांसी लगाकर की थी आत्महत्या

Shahjahanpur Crime News : शाहजहांपुर के एक दवा कारोबारी ने दो बच्चों के साथ फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी।

Network

NetworkNewstrack NetworkShraddhaPublished By Shraddha

Published on 8 Jun 2021 11:56 AM GMT

दवा कारोबारी ने पूरे परिवार सहित आत्महत्या कर ली
X

दवा कारोबारी ने पूरे परिवार सहित आत्महत्या कर ली

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Shahjahanpur Crime News : उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर (Shahjahanpur) के चौक कोतवाली इलाके के एक दवा कारोबारी (Medicine Dealer) ने दो बच्चों के साथ सोमवार दोपहर फांसी लगाकर आत्महत्या (Suicide by hanging) कर ली थी। पूरी फैमिली के शव फांसी के फंदे पर लटके हुए मिले थे पुलिस को मौके से सुसाइड नोट (Suicide note) भी मिला था पुलिस ने इस मामले में जांच के दौरान पाया कि दवा व्यापारी ने सूदखोर से रुपया ब्याज पर ले रखा था जिसकी 3 गुना अदायगी भी कर चुका था लेकिन इसके बावजूद 75 लाख रुपया अभी भी बकाया था जिसके चलते सूदखोर ने दवा व्यापारी के मकान की रजिस्ट्री करवा ली थी यहां तक की दाखिल खारिज भी करवा लिया था।

आपको बता दें कि दवा व्यापारी पर सूदखोर और उसके गुर्गे घर छोड़कर बाहर जाने के लिए दबाव डाल रहे थे इसी के चलते पूरे परिवार ने इतना भयानक कदम उठाया था फिलहाल पुलिस ने आरोपी सूदखोर की गिरफ्तारी के लिए दो टीमें गठित किए हैं पुलिस का दावा है कि जल्द ही सूदखोर की गिरफ्तारी की जाएगी।


दवा व्यापारी अखिलेश गुप्ता


आपको बता दें कि कल चौक कोतवाली क्षेत्र के कच्चा कटरा इलाके में दवा व्यापारी अखिलेश गुप्ता, उनकी पत्नी रिशु, 12 साल के बेटे शिवांक और 6 साल की बेटी अर्चिता के शव घर के अंदर फांसी पर लटके हुए मिले थे। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया जिसमें उनकी मौत की वजह फांसी पर लटकना बताई गई है।

दवा व्यापारी की पत्नी रिशु

पुलिस जांच में यह बात निकलकर सामने आई है कि काँट थाना क्षेत्र का रहने वाला सूदखोर अविनाश बाजपेई ब्याज को लेकर परिवार का उत्पीड़न कर रहा था। दवा व्यापारी ने सूदखोर से रुपया ब्याज पर ले रखा था जिसकी 3 गुना अदायगी भी कर चुका था लेकिन इसके बावजूद 75 लाख रुपया अभी भी बकाया था। इतना ही नहीं सूदखोर ने दवा व्यापारी का मकान भी अपने नाम रजिस्ट्री करवा ली थी। नगर निगम से दाखिल खारिज भी हो गया था दवा व्यापारी को सूदखोर घर से निकल जाने का दबाव डाल रहे थे सूदखोर के उत्पीड़न से परेशान होकर पूरे परिवार ने आत्महत्या कर ली थी। पुलिस ने मृतक अखिलेश गुप्ता के पिता की तहरीर पर अविनाश वाजपेई के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस का कहना है कि उनकी 2 टीमें लगातार आरोपी को पकड़ने के लिए लगाई गई है। और जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Shraddha

Shraddha

Next Story