Top

वाराणसी में शूटआउट के बाद उठ रहे हैं सवाल, मॉल के अंदर कैसे पहुंचा असलहा ?

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 1 Nov 2018 4:15 AM GMT

वाराणसी में शूटआउट के बाद उठ रहे हैं सवाल, मॉल के अंदर कैसे पहुंचा असलहा ?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाराणसी: जिले के जेएचवी मॉल में हुए शूटआउट के बाद कई सवाल सुलग रहे हैं। सवाल, मॉल की सुरक्षा को लेकर उठ रहे हैं। दरअसल वाराणसी में जिस जगह पर ये मॉल स्थित है, वहां से चंद कदमों की दूरी पर पुलिस प्रशासन के साथ ही जिला प्रशासन के आलाधिकारियों के बंगले हैं। कैंटोमेंट इलाका भी सटा हुआ है। हर वक्त सुरक्षा का कड़ा पहरा रहता है। यही नहीं खुद मॉल में भी हर वक्त सुरक्षा चौकस रहती है। बावजूद इसके बदमाशों ने इतनी बड़ी वारदात को कैसे अंजाम दिया ?

ये भी देखें:टीचर के साथ पति करना चाहता था अननेचुरल सेक्‍स, मना किया तो हुआ ये हाल

मॉल की मेन गेट पर तैनात रहते हैं सुरक्षाकर्मी

जेएचवी मॉल के अंदर दाखिल होने के दो रास्ते हैं। दोनों की जगहों पर कड़ी सुरक्षा रहती है। एक्सरे मशीन के साथ ही सुरक्षाकर्मी मौजूद रहते हैं। ऐसे में वारदात को अंजाम देने वाले बदमाश आखिर कैसे असलहा लेकर अंदर दाखिल हुए। क्या दोनों ही द्वार पर सुरक्षाकर्मियों से चूक हुई या फिर बदमाशों को जानबूझकर अंदर जाने दिया गया। फिलहाल मौके पर पहुंचीं फॉरेंसिक टीम ने मॉल के अंदर लगे सभी सीसीटीवी फुटेज को अपने कब्जे में ले लिया है।

ये भी देखें: जम्मू एवं कश्मीर: नियंत्रण रेखा पर भारतीय, पाकिस्तानी सैनिकों के बीच गोलीबारी

एडीजी से दिए कार्रवाई के संकेत

मौके पर पहुंचे एडीजी पीवी रामाशास्त्री ने भी मॉल के अंदर सुरक्षा में हुई चूक को माना। उन्होंने कहा कि पूरे मामले की जांच कराई जाएगी। साथ ही ये देखा जाएगा कि आखिर कैसे मॉल के अंदर बदमाश असलहे के साथ दाखिल हुए। दूसरी ओर बदमाशों के गोलियों के शिकार हुए एक शख्स ने बताया कि कुछ दिन पहले काशी विद्यापीठ के छात्रों से डिस्काउंट को लेकर विवाद हुआ था। उस वक्त छात्रों ने जान से मारने की धमकी दी थी। और बुधवार को इन्हीं छात्रों ने वारदात को अंजाम दिया।

ये भी देखें:जानिए वो राज ! सरदार पटेल क्यों नहीं चाहते थे कश्मीर बने इंडिया का हिस्सा

ताबड़तोड़ वारदात से सहमी धर्म की नगरी

वाराणसी में पिछले एक हफ्ते के अंदर ये तीसरी बड़ी वारदात है। लहुराबीर इलाके में कैफे संचालक और केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा के करीबी रिश्तेदार की हत्या की गुत्थी अभी सुलझी भी नहीं थी कि बदमाशों ने एक बार फिर से बड़ी घटना को अंजाम देकर पुलिस को चुनौती दी है। इस घटना के बाद वाराणसी की कानून व्यवस्था पर सवाल उठना लाजमी है। खासतौर से तब जबकि केंद्र के साथ राज्य सरकार शहर के विकास को लेकर बेहद संवेदनशील है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शहर से जुड़ी हर गतिविधि की सीधी मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story