Top

UP: जाली दस्तावेज से पासपोर्ट बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, ATS ने 6 अभियुक्तों को दबोचा

aman

amanBy aman

Published on 27 March 2017 9:02 PM GMT

UP: जाली दस्तावेज से पासपोर्ट बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, ATS ने 6 अभियुक्तों को दबोचा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: यूपी एटीएस ने सोमवार को जाली दस्तावेजों के आधार पर साधारण पासपोर्ट को इसीएनआर पासपोर्ट में तब्दील कराने वाले गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए 6 अभियुक्तों को ग़िरफ़्तार किया। इनके कब्जे से 73 पासपोर्ट, लैपटॉप, प्रिन्टर और कंप्यूटर के अलावा कई दस्तावेज़ बरामद किए गए हैं।

एएसपी एटीएस राजेश साहनी ने बताया है कि कुछ देशों में नौकरी के मकसद से विदेश जाने वालों को इमिग्रेशन चेक से गुजरना पड़ता है। अगर उनके पासपोर्ट पर इसीएनआर यानि इमिग्रेशन चेक नाट रेकवायर्ड स्टैम्प न लगी हो, तो वो इन देशों में रोज़गार के लिए नहीं जा सकते। इन देशों में बहरीन, ब्रूनेई, कुवैत, जॉर्डन, लीबिया, ओमान, क़तर, सऊदी अरब और यूएई प्रमुख हैं।

ये हुए गिरफ्तार:

एटीएस ने अशरफाबाद चौक निवासी मोहम्मद मारूफ, घसियारी मंडी कैसरबाग़ निवासी मोहम्मद फैसल, अमीनाबाद निवासी मोहम्मद जावेद नक़वी, नजीराबाद अमीनाबाद निवासी अरमान खान, एलडीए निवासी कृष्णानगर निवासी कुलविन्दर सिंह और हुसैनगंज निवासी मोहम्मद शोएब अंसारी को गिराफ्तार किया है।

क्या कहना है आईजी एटीएस का?

आईजी एटीएस असीम अरुण कहते हैं कि 'ये बड़ा मामला है, क्योंकि इससे राष्ट्रीय सुरक्षा प्रभावित होती है। उन्होंने बताया है कि इस मामले में पासपोर्ट कार्यालय के कर्मचारी भी संदेह के घेरे में हैं। पड़ताल जारी है।'

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story