Top

रेप पीड़िता से दरोगा ने की बदसलूकी, मुकदमा वापस लेने के लिए बना रहा है दबाव

पहले भी दरोगा ने उसे दिनभर कोतवाली में बैठाए रखा और मुकदमा वापस लेने के लिए दबाव बनाया। आरोप है कि दरोगा ने उसे धमकी दी कि तुझे ऐसा कर दूंगा कि तू मुंह दिखाने लायक नहीं रहेगी।

zafar

zafarBy zafar

Published on 31 March 2017 6:53 AM GMT

रेप पीड़िता से दरोगा ने की बदसलूकी, मुकदमा वापस लेने के लिए बना रहा है दबाव
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सहारनपुर: एक तरफ प्रदेश की योगी सरकार महिलाओं को आजादी देने के लिए अभियान चला रही है, तो दूसरी तरफ पुलिस इसमें पलीता लगा रही है। सहारनपुर में एक रेप पीड़िता ने आरोप लगाया है कि एक दरोगा उस पर रेप का मुकदमा वापस लेने का दबाव बना रहा है। दरोगा ने पीड़िता को धमकी दी है कि वह उसे मुंह दिखाने लायक भी नहीं छोड़ेगा। बहरहाल, मामले में एसएसपी ने कार्रवाई के आदेश दे दिये हैं।

पीड़िता से बदसलूकी

रेप पीड़िता ने कोतवाली सदर बाजार के दरोगा पर धमकी देते हुए जिन शब्दों के इस्तेमाल का आरोप लगाया है, उन्हें लिखना उचित नहीं है।

कोतवाली देहात के गांव नसरतपुर साढ़ोली निवासी इस दलित महिला को परिवार समेत आरोपियों ने गांव से निकाल दिया है।

मजदूरी करने वाले पति-पत्नी अब रुप विहार कॉलोनी में किराये के मकान में रहते हैं।

आरोप है कि एक दिन जब पति की गैरमौजूदगी में महिला आरोपियों के खेत में काम करने गई थी, तो दो सगे भाइयों ने उसके साथ रेप किया था।

रेप की इस घटना की एफआईआर दर्ज हुई थी जो अब अदालत में विचाराधीन है।

पीड़िता पर दबाव

पीड़िता के अनुसार पिछली 17 मार्च को वह अदालत में अपना बयान देने गई तो रास्ते में आरोपियों ने उसे और उसके पति को मारा पीटा।

उसने बताया कि आरोपियों ने खलासी लाइन पर पति-पत्नी को रोक कर मारपीट की और गर्दन पर चाकू रखकर बयान न देने के लिए धमकाया।

इसी की शिकायत करने पीड़िता कोतवाली सदर बाजार गई थी, जहां पुलिस ने उसके साथ अभद्रता की।

इससे पहले भी दरोगा ने उसे दिनभर कोतवाली में बैठाए रखा और मुकदमा वापस लेने के लिए दबाव बनाया।

आरोप है कि दरोगा ने उसे धमकी दी कि तुझे ऐसा कर दूंगा कि तू मुंह दिखाने लायक नहीं रहेगी।

कार्रवाई का भरोसा

रेप के बाद पीड़िता गर्भवती हो गई थी और दो साल की बच्ची को साथ लेकर अधिकारियों के पास चक्कर काटती रही।

पिछले दिनों वह डीआईजी ऑफिस भी गई थी, लेकिन अवकाश बताते हुए उसे डीआईजी से नहीं मिलने दिया गया।

बहरहाल, किसी तरह फरियादी एसएसपी लव कुमार से मिलने में कामयाब रही।

एसएसपी ने कहा है कि आरोपों की जांच कराई जाएगी और अगर आरोप सच पाए गए तो दरोगा के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

zafar

zafar

Next Story