Top

बुलंदशहर : SHO सुबोध ने शहीद हो बचा लिया प्रदेश को जलने से, जानिए कैसे

स्याना कांड में की जांच कर रही एसआईटी टीम के सामने कुछ रहस्यों से पर्दा उठा है। सूत्रों के मुताबिक कुछ उपद्रवियों ने सड़क किनारे लगे पेड़ को काटना शुरू किया उनकी योजना ये थी कि हाईवे जाम किया जा सके। इस योजना का पता जब शहीद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह चला तो उन्होंने कुल्हाड़ी छीनने का प्रयास किया।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 7 Dec 2018 6:46 AM GMT

बुलंदशहर : SHO सुबोध ने शहीद हो बचा लिया प्रदेश को जलने से, जानिए कैसे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बुलंदशहर : स्याना कांड में की जांच कर रही एसआईटी टीम के सामने कुछ रहस्यों से पर्दा उठा है। सूत्रों के मुताबिक कुछ उपद्रवियों ने सड़क किनारे लगे पेड़ को काटना शुरू किया उनकी योजना ये थी कि हाईवे जाम किया जा सके। इस योजना का पता जब शहीद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह चला तो उन्होंने कुल्हाड़ी छीनने का प्रयास किया। दंगाईयों कुल्हाड़ी से सुबोध पर हमला करने का प्रयास किया और पुलिसबल पर पथराव करने लगे। इसके बाद दंगाई खेतों में कूद गए। इसी दौरान सुमित को गोली लगी जिससे वो घायल हो गया इसके बाद दंगाइयों ने इंस्पेक्टर की हत्या कर दी।

ये भी देखें : बुलंदशहर हिंसा : सेना के जवान ने मारी थी शहीद इंस्पेक्टर को गोली

जांच में सामने आया है कि हाइवे पर पेड़ काटकर डालने से तब्लीगी इज्तिमा से लौट रहे अल्पसंख्यक समुदाय को निशाना बनाने की साजिश थी। जिसे सुबोध कुमार ने रोक दिया। इससे पहले गोवंश के अवशेषों वाली ट्रैक्टर-ट्रॉली को पुलिस हटा चुकी थी।

ये भी देखें : बुलंदशहर हिंसा: PM रिपोर्ट से खुलासा,गोली लगने से हुई थी इंस्पेक्टर सुबोध की मौत

पुलिस ये पता करने की कोशिश कर रही है कि इज्तिमा के दौरान गोकशी किस मकसद से की गई। इसके लिए जांच टीम उन वीडियोज की गहनता से जांच कर रही है जो उसे मिले हैं। जांच टीम इसे गंभीर इस लिए भी मान रही है क्योंकि इस इलाके में पहले कभी भी गोवंश से जुडी कोई घटना नहीं सामने आई और इज्तिमा के दौरान इसे अंजाम दिया गया, तो इसके पीछे कौन लोग शामिल हैं उनका सामने आना बहुत जरुरी है।

आपको बता दें, ये सोच कर ही रूह कांप जाती है कि अगर दंगाईयों की साजिश सफल हो जाती तो आज सिर्फ प्रदेश ही नहीं देश भी दंगों की चपेट में होता और कई मासूम अपनी जान से हाथ धो बैठते।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story