Top

इनके जैसे न सुधरे हैं न सुधरेंगे : एसएमएस से दिया तलाक

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 13 May 2017 3:55 PM GMT

इनके जैसे न सुधरे हैं न सुधरेंगे : एसएमएस से दिया तलाक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ग्रेटर नोएडा : उत्तर प्रदेश में तीन तलाक का एक और मामला दादरी कोतवाली क्षेत्र में सुनने को मिला है, जहां दहेज में पांच लाख रुपये की मांग पूरी न होने पर एक मुस्लिम युवक ने अपनी पत्नी को एसएमएस पर ही तलाक दे डाला।

ये भी देखें : ट्रिपल तलाक : जनाब वो करिए जो कुरान ए पाक कहती है, मुस्लिम देशों में भी नहीं होता ऐसा

पुलिस के मुताबिक, दादरी कोतवाली क्षेत्र में सलमा की शादी बीते 10 अप्रैल को गुरुग्राम के आजाद से हुई थी। लड़की के परिजनों के मुताबिक लड़का पक्ष ने आजाद की सरकारी नौकरी बताई थी। लेकिन शादी के कुछ समय बाद ही उसकी असलियत सामने आ गई। पता चला कि आजाद तो किसी प्राइवेट कंपनी में काम करता है। सलमा ने जब इस पर जानकारी हासिल की तो उसे धमका कर चुप करा दिया गया। आजाद इसी के बाद से अपनी पत्नी सलमा से मारपीट करने लगा।

पुलिस ने कहा कि इसी बीच उसने सलमा से अपनी मायके से पांच लाख रुपये लेकर आने को कहा। सलमा ने कहा की उसके पिता कर्ज में डूबे हैं और वह इतनी बड़ी रकम कहां से दे पाएंगे।

पुलिस के अनुसार, इसके बाद आजाद ने उसे जबरन दादरी स्टेशन लाकर छोड़ गया। आजाद ने लड़की के पिता के मोबाइल पर तलाक तलाक तलाक का मैसेज भेज दिया। पीड़ित सलमा ने पूरे मामले की रिपोर्ट दादरी कोतवाली में दर्ज करवा दी है। दादरी पुलिस ने धारा 498-ए व 323 के तहत मुकदमा दर्ज करते हुए आजाद की तलाश शुरू कर दी है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story