Top

चोरी की साइकिलें बिकनी हो गईं कम, तो रोज चुराने लगे एक बाइक

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 6 July 2016 8:41 PM GMT

चोरी की साइकिलें बिकनी हो गईं कम, तो रोज चुराने लगे एक बाइक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडाः चोरों का एक गिरोह पहले साइकिलों पर हाथ साफ करता था। फिर उन्हें बेच देता। चोरी की साइकिलों की डिमांड कम हुई, तो बाइक चुराने के धंधे में गिरोह के सदस्य उतरे। रोज नई बाइक उठानी शुरू कर दी, लेकिन पुलिस से ज्यादा दिन बच नहीं सके। गिरोह के दो सदस्यों के पास से पुलिस ने 10 साइकिलें और 15 बाइक बरामद की हैं। इनके बाकी साथियों की तलाश की जा रही है।

इस तरह पकड़े गए बदमाश

-कोतवाली फेस टू पुलिस सेक्टर 136 के पास वाहन चेकिंग कर रही थी।

-दोनों चोर वहां आए और पुलिस को देखकर बाइक घुमाकर भागने लगे।

-दोनों को पुलिस ने पीछा कर गिरफ्तार किया।

-पूछताछ में आरोपियों ने कबूला कि बाइक चोरी की है।

-पुलिस के अनुसार दोनों में से एक बुलंदशहर के जहांगीराबाद का राशिद और दूसरा सूरजपुर का बिट्टू है।

साइकिल की मांग कम होने पर बाइक चोरी शुरू की

-राशिद और बिट्टू ने पुलिस को 10 साइकिल और 15 बाइक बरामद कराईं।

-दोनों ने बताया कि साइकिल की मांग कम हो गई थी, जिसके बाद बाइक चुराना शुरू किया।

-भीड़ वाले इलाके से चोरी करते थे, चोरी से पहले रेकी करके देखते थे कि कहां से चोरी करना आसान है।

-दोनों आरोपी बाइक के शौकीन हैं, चोरी की बाइक को वे दो से ढाई हजार में देहात के इलाकों में बेच देते थे।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story