Top

बड़ी सफलता : यूपी एटीएस ने आतंकियों को कारतूस सप्लाई करने वाले को किया गिरफ्तार

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 29 March 2017 2:06 PM GMT

बड़ी सफलता : यूपी एटीएस ने आतंकियों को कारतूस सप्लाई करने वाले को किया गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर : हाल में ही मध्य प्रदेश में हुए ट्रेन विस्फोट की पर्ते खुलने लगी हैं। आतंकियों को कारतूस सप्लाई करने वाले राघवेन्द्र सिंह चौहान को यूपी एटीएस ने उसके घर से ही गिरफ्तार किया है। चौहान की असलहों की दुकान है औए वो आभूषणों का भी कारोबार करता है।

ये भी देखें :किन्नर : जो खुद गुमनामी में रह देते हैं प्रसिद्धि और धन का आशीर्वाद, जानिए रोचक 20 रोचक तथ्य

काकादेव थाना क्षेत्र स्थित गीतानगर क्रासिंग के पास रहने वाले राघवेन्द्र सिंह चौहान ने उन आतंकियों को कारतूस सप्लाई किए थे, जिन्होंने ने मध्य प्रदेश में ट्रेन की बोगी में विस्फोट किया था। इस विस्फोट के बाद से सुरक्षा एजेंसी और यूपी एटीएस लगातार सक्रिय थे। ट्रेन धमाके के दौरान कारतूस के खोखे और जिंदा कारतूस भी बड़ी मात्रा में बरामद हुए थे। जिनकी संख्या सात सौ से अधिक थी। इतनी संख्या में कारतूस बरामद होने के बाद यूपी एटीएस यह पता लगाने में जुटी थी कि इनकी सप्लाई किसने की है।

जाँच में लगी यूपी एटीएस को मुखबिर और हिरासत में लिए गए युवकों से पता चला की गीतानगर के रहने वाले राघवेन्द्र ने पैसे के लालच में इस काम को अंजाम दिया था। जानकारी मिली की राघवेन्द्र की घर में ही एलआरएस आर्म्स एंड एम्युनिशन के नाम से शॉप है। मंगलवार देर रात यूपी एटीएस ने इसको घर से दबोच लिया। जब इसकी दुकान की जाँच हुई तो पता चला कि उसने कारतूस खरीदने और बेचने में बड़ा झोल किया है।

राघवेन्द्र ने मेस्टन रोड के खन्ना गन हॉउस व सेवा गन हॉउस से कारतूस तो ख़रीदे लेकिन उसकी एंट्री अपने रजिस्टर में नहीं की थी। इसके साथ ही शॉप में डीएम,एडीएम सिटी, चिकित्सा अधिकारी सहित कई गन हॉउस और शिक्षण संस्थानों की भी मोहर मिली है। यूपी एटीएस राघवेन्द्र को अपने साथ लखनऊ ले गई है।

वहीँ आतंकियों का गढ़ बन सामने आए यूपी के कानपुर में आजकल एनआईए की टीम डेरा डाले हुए है, बुधवार को शहर में आतंकी संगठन से जुड़े अजहर को लेकर टीम ने शहर के स्थानों से साक्ष्य जुटाने का प्रयास किया। इस जाँच में उसका साथ दिया यूपी एटीएस ने।

एनआईए की टीम ने गौस मोहम्मद व आतिफ के करीबियों व रिश्तेदारों को भी शक के आधार पर पूछताछ के लिए उठाया। एनआईए टीम ने कई संदिग्धों को उठाकर सीओ कार्यालय में घंटों पूछताछ की। डीएसपी मनीष सोनकर की टीम में शामिल एटीएस के एसआई अनिरुद्ध दुबे द्वारा एसपी पूर्वी कानपुर सोमेंद्र वर्मा, प्रभारी निरीक्षक रेल बाजार सतीश कुमार सिंह के सहयोग से यह जांच की जा रही है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story