Top

UP एटीएस: अवैध रूप से ECRN स्टाम्प लगवाने के मामले में 5 स्थानों पर जांच शुरू

sujeetkumar

sujeetkumarBy sujeetkumar

Published on 27 March 2017 1:05 PM GMT

UP एटीएस: अवैध रूप से ECRN स्टाम्प लगवाने के मामले में 5 स्थानों पर जांच शुरू
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: यूपी एटीएस टीम सोमवार 27 मार्च को राजधानी के 5 स्थानों पर पासपोर्ट में इमिग्रेशन चेक नॉट रिक्वायर्ड (इसीआरएन) स्टाम्प लगवाने के अवैध धंधे की जांच कर रही है। एटीएस को सूचना मिली थी कि राजधानी में अवैध रूप से पासपोर्ट में ईसीआरएन स्टाम्प लगाने का काम हो रहा है।

यह भी पढ़ें...पासपोर्ट के लिए मां-बाप की जगह गुरु का नाम लिख सकेंगे साधु

क्या है इसीआरएन

इमिग्रेशन चेक नॉट रिक्वायर्ड (इसीआरएन) के अनुसार जो व्यक्ति नौकरी के लिए कुछ चुनिंदा देशों में जाते हैं उन्हें इमिग्रेशन चेक से गुज़रना पड़ता है। यदि उनके पासपोर्ट पर इसीआरएन स्टाम्प न लगी हो तो वह इन देशों में रोजगार के लिए नहीं जा सकते।

यह हैं देश

-बहरीन, ब्रूनेई, कुवैत, जॉर्डन, लीबिया, ओमान, कतर, सऊदी अरब, यूएई आदि।

-सूचना के मुताबिक इससे बचने के लिए कुछ लोग फर्जी हाईस्कूल प्रमाण पत्र बनवाकर पासपोर्ट पर स्टाम्प लगना रहे है।

-इस फर्जीवाड़े से राष्ट्रीय सुरक्षा प्रभावित होती है, क्योंकि जिन व्यक्तियों को इस चेक से गुजरकर जाना होता है, वह इससे बच जाते है।

यह भी पढ़ें...प्रवासी भारतीय दिवस: PM बोले- हम पासपोर्ट का कलर नहीं देखते, खून का रिश्ता सोचते हैं

-इस मामले की सूचना के बाद पासपोर्ट कार्यालय का स्टाफ भी संदेह के घेरे में है।

-पासपोर्ट कार्यालय के कर्मचारियों के बारे में एटीएस की टीम जांच पड़ताल कर रही है।

-जिन व्यक्तियों ने फर्जी तरीके से इसीआरएन स्टैम्प लगवाया है, उन्हें चिह्नित करके अरेस्ट किया जाएगा।

-अब यह भी जांच की जा रही है कि कितने दलाल, सरकारी कर्मचारी और पासपोर्ट धारक इसमें शामिल रहे हैं।

sujeetkumar

sujeetkumar

Next Story