Top

आधार कार्ड बनाते- बनाते 90 हजार के नकली नोट छापे, पुलिस ने किया गिरफ्तार

स्वाट टीम और देहात कोतवाल ने नकली नोट बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए दो यूवकों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से 90 हजार की नकली करेंसी बरामद की हैं।

sujeetkumar

sujeetkumarBy sujeetkumar

Published on 5 May 2017 10:54 AM GMT

आधार कार्ड बनाते- बनाते 90 हजार के नकली नोट छापे, पुलिस ने किया गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बहराइच: स्वाट टीम (स्पेशल विपंस एंड टैक्टिस) और देहात कोतवाल ने नकली नोट बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए दो युवकों को गिरफ्तार किया है। पुलिस को इनके पास से 90 हजार की नकली करेंसी और नोट बनाने वाले उपकरण बरामद हुए हैं। पुलिस अधीक्षक ने नकली नोट बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश करने के लिए पुलिस टीम को पांच हजार रुपए का पुरस्कार देने की घोषणा की है।

अपर पुलिस अधीक्षक दिनेश त्रिपाठी ने बताया कि मुखबिर द्वारा सूचना मिल रही थी, कि जिले में जाली नोट बनाने का गिरोह चल रहा है। जिसको गंभीरता से लेते हुए इस खुलासे की जिम्मेदारी स्वाट टीम प्रभारी श्रीनाथ यादव और देहात कोतवाल आरपी यादव को सौंपी।

मुखबिर द्वारा सूचना मिली

आरपी यादव ने टीम के साथ मिलकर चेकिंग अभियान चलाया। इसबीच स्वाट टीम प्रभारी को मुखबिर द्वारा सूचना मिली कि कुछ लोग बाइक पर सवार होकर बहराइच की ओर आ रहे थे, उनके पास कुछ नकली नोट मौजूद है।

उन्होने मुखबिर की सूचना को गंभीरता से लेते हुए देहात कोतवाली को सूचित किया। चेकिंग कर रहे पुलिसकर्मी को गोण्डा की ओर से आ रहे बाइक सवार दो संदिग्ध लोग दिखे। जिन्हें पुलिस ने रूकवाकर सघन तलाशी ली। पकड़े गए अभियुक्तों की पहचान धर्मेंद्र निवासी लड़हौरा और हरिराम निवासी इकौना बाईपास के रूप में हुई। पुलिस ने दोनो अभियुक्तों को गिरफतार कर जेल भेज दिया।

जानिए कैसे बनाने लगे नकली नोट

पकड़े गए आरोपी ने बताया कि वह बीते कुछ दिनों से एक दुकान में आधार कार्ड बनाने का काम करता था। आधार कार्ड बनाते समय उसके दिमाग में नकली नोट बनाने का आइडिया आया और उसने अपने आधार कार्ड बनाने वाले प्रिन्टर से ही उसी साइज का नोट प्रिन्ट आउट कर डाला। उसे लगा कि ये जिले में चल जाएगा । जिसके बाद उसने नब्बे हजार रूपए के सौ - सौ की नोटों का प्रिन्ट आउट निकाल डाला।

sujeetkumar

sujeetkumar

Next Story