Top

STF के हत्थे चढ़ा सॉल्वर गैंग, देश भर में फैला है प्रतियोगी परीक्षाओं का SELECTION NETWORK

इन लोगों ने परीक्षा केंद्र व्यवस्थापकों से लेकर उन कम्पनी अधिकारियों को अपने गैंग में शामिल कर रखा है, जिनके माध्यम से या जहां परीक्षाएं आयोजित होती हैं। गैंग एक ऐसा सॉफ्टवेयर प्रयोग करता है, जिससे परीक्षा देते समय परीक्षा देने वाले लड़के का फिंगर प्रिंट भी मेल खा जाता था।

zafar

zafarBy zafar

Published on 24 Oct 2016 2:49 PM GMT

STF के हत्थे चढ़ा सॉल्वर गैंग, देश भर में फैला है प्रतियोगी परीक्षाओं का SELECTION NETWORK
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

STF के हत्थे चढ़ा सॉल्वर गैंग, देश भर में फैला है प्रतियोगी परीक्षाओं का SELECTION NETWORK

कानपुर: उत्तर प्रदेश एसटीएफ ने राष्ट्रीय स्तर का एक ऐसा गैंग पकड़ा है, जो देश भर की प्रतियोगी परीक्षाओं में बेरोजगारों के सेलेक्शन कराता था।

इसके एवज में यह सॉल्वर गैंग प्रति बेरोजगार पंद्रह से बीस लाख रुपए लेता था। पिछले चार महीने में यह गैंग करीब पांच करोड़ रुपए वसूल चुका है। एसटीएफ ने इनके पास से नौ लाख कैश बरामद किए हैं।

देश भर में है जाल

-यूपी एसटीएफ ने सोमवार को कानपुर की कोचिंग मंडी के एक हॉस्टल में छापा मारकर दस लड़कों को गिरफ्तार किया है। ये सभी लड़के एक सॉल्वर गैंग से जुड़े हैं।

-एसटीएफ ने इनके पास से कई कंप्यूटर और प्रिंटर के अलावा हर तरह के फर्जी कागजात बनाने वाले उपकरण बरामद किेए हैं।

-पूछताछ में इन लड़कों ने बताया कि ये ज्यादातर ऑनलाइन परीक्षाओं में सेलेक्शन काराया करते थे।

-एसटीएफ के अनुसार गैंग का नेटवर्क पूरे देश में फैला है।

गैंग का सॉफ्टवेयर

-एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि गैंग प्रति उम्मीदवार पंद्रह लाख रूपए लेता था। गैंग का सरगना केपी उर्फ़ कृष्णन प्रसन्ना है।

-इन लोगों ने परीक्षा केंद्र व्यवस्थापकों से लेकर उन कम्पनी अधिकारियों को अपने गैंग में शामिल कर रखा है, जिनके माध्यम से या जहां परीक्षाएं आयोजित होती हैं।

-हाल में इलाहबाद में हुई इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी इलाहाबाद की परीक्षा और महाराष्ट्र की क्लर्कल परीक्षा में ही ये लोग तीन दर्जन लड़कों का सेलेक्शन करा चुके हैं।

-ये गैंग एक ऐसा सॉफ्टवेयर प्रयोग करता है, जिससे परीक्षा देते समय परीक्षा देने वाले लड़के का फिंगर प्रिंट भी मेल खा जाता था।

-एसएसपी ने बताया कि इस गैंग में लगभग तीस सदस्य हैं जो राजस्थान, महाराष्ट्र, यूपी, मध्यप्रदेश और अन्य प्रदेशों में अपना रैकेट चला रहा है।

-कहा जाता है, इस समय कानपुर सॉल्वर गैंग का प्रमुख अड्डा बन चुका है। इस गैंग ने भी परीक्षा केंद्र से लेकर टेक्निकल डिपार्टमेंट तक हर जगह सेटिंग कर रखी थी।

आगे स्लाइड्स में देखिए कुछ और फोटोज...

STF के हत्थे चढ़ा सॉल्वर गैंग, देश भर में फैला है प्रतियोगी परीक्षाओं का SELECTION NETWORK

STF के हत्थे चढ़ा सॉल्वर गैंग, देश भर में फैला है प्रतियोगी परीक्षाओं का SELECTION NETWORK

STF के हत्थे चढ़ा सॉल्वर गैंग, देश भर में फैला है प्रतियोगी परीक्षाओं का SELECTION NETWORK

STF के हत्थे चढ़ा सॉल्वर गैंग, देश भर में फैला है प्रतियोगी परीक्षाओं का SELECTION NETWORK

zafar

zafar

Next Story