Top

ठगी का बड़ा खुलासा: 250 करोड़ की धोखेबाजी करने वाला गिरफ्तार, पैसे डबल होने का दिया झांसा

उत्तराखंड एसटीएफ (Uttarakhand STF) ने करोड़ों की ठगी का खुलासा किया है। एसटीएफ ने 250 करोड़ रुपये की ठगी के मामले में उत्तर प्रदेश के नोएडा से एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है।

Network

NetworkNewstrack NetworkVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 9 Jun 2021 8:56 AM GMT

In the name of doubling money in 15 days, cheating of 250 crores in 4 months
X

ठगी का मामला (फोटो-सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा: उत्तराखंड(Uttarakhand) में ठगी के बहुत बड़े कारनामें को लेकर खुलासा हुआ है। जीं हां उत्तराखंड एसटीएफ (Uttarakhand STF) ने करोड़ों की ठगी का खुलासा किया है। एसटीएफ ने 250 करोड़ रुपये की ठगी के मामले में उत्तर प्रदेश के नोएडा से एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है।

ऐसे में हैरानी की बात तो ये है कि ये ठगी केवल 4 महीने के अंतराल में की गई है। सबसे बड़ी बात ये है कि इस ठगी को चीन की स्टार्टअप योजना के तहत बने ऐप से अंजाम देने का खुलासा हुआ है।

250 करोड़ का लोगों को चूना

आपको बता दें कि चीन की स्टार्टअप योजना के चलते बने 'पावर बैंक ऐप' को अब तक भारत में लगभग 50 लाख लोग डाउनलोड कर चुके हैं। वहीं इस ऐप के जरिये लोगों को 15 दिन में पैसे डबल होने का लालच दिया जाता था। साथ ही इसी वजह से सिर्फ 4 महीने में ठगों ने 250 करोड़ का लोगों को चूना लगाया है।

इसमें ठगी करने वालों लोगों से पॉवर बैंक ऐप को डाउनलोड करने के लिए कहा जाता था। फिर जब लोग इस ऐप को डाउनलोड कर लेते थे, तो उन्‍हें ये कहा जाता है कि 15 दिन में पैसे डबल हो जाएगें।

अब हैरानी की बात ये है कि यह धंधा करीब चार महीने से चल रहा था, लेकिन पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी। इस बारे में खुलासा तो तब हुआ जब उत्तराखंड के हरिद्वार के रहने वाले व्‍यक्ति की शिकायत के बाद हुआ है।


साथ ही शिकायतकर्ता ने पुलिस को सूचना दी कि एक 'पावर बैंक ऐप' में 15 दिन में पैसे डबल करने के लिए उसने दो बार में 93 हजार और 72 हजार जमा किए थे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ है। जिसके बाद उसने ठगी की शिकायत पुलिस थाने की।

पुलिस के उड़ गए होश

थाने में शिकायत मिलने के बाद पुलिस को छानबीन में पता चला कि पैसे अलग-अलग खातों में ट्रांसफर कराए गए हैं। फिर इसके बाद जब वित्‍तीय लेने देन की जांच की गई, तो 250 करोड़ रुपये की ठगी सामने आने से पुलिस के होश उड़ गए।

तभी इस मामले को लेकर उत्तराखंड एसटीएफ एसएसपी अजय सिंह ने कहा कि पुलिस की जांच में ठगी करने वाले विदेशी निवेशकों द्वारा भारत के कारोबारियों को कमीशन का लालच देकर ऐप के जरिए लोगों को लोन देने की बात करते थे।

इस पर उत्तराखंड एसटीएफ के एसएसपी के अनुसार, छानबीन में नोएडा से एक आरोपी पवन पांडेय को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी के पास से 592 सिम कार्ड, 19 लैपटॉप, 5 मोबाइल फोन, चार एटीएम कार्ड और एक पासपोर्ट बरामद हुआ है। यही नहीं, एसटीएफ को जांच में पता चला कि ये रकम क्रिप्‍टो करेंसी में बदलकर विदेश भेजी जा रही है।

देहरादून के एडीजी अभिनव कुमार ने कहा कि 250 करोड़ के ठगी के मामले की जानकारी अन्‍य जांच एसेंसियों आईबी और रॉ को दी गई है। इसके साथ जिन विदेशी लोगों के नाम सामने आ रहे हैं, उनके दूतावास से जानकारी मांगी जा रही है। इसके साथ ही उन्‍होंने बताया कि इस मामले में उत्‍तराखंड में दो और बेंगलुरु में एक मामला दर्ज है।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story