Top

ब्लैकमनी का इंजीनियर : CBI ने यादव सिंह के खिलाफ दर्ज किया नया केस

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 19 Jan 2018 2:59 PM GMT

ब्लैकमनी का इंजीनियर : CBI ने यादव सिंह के खिलाफ दर्ज किया नया केस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा : सीबीआई ने नोएडा प्राधिकरण के पूर्व चीफ इंजीनियर यादव सिंह के खिलाफ नया केस दर्ज किया है। उन पर अपने कार्यकाल के दौरान निजी कंपनियों को 116.39 करोड़ रुपए की परियोजनाएं देने और इसकी एवज में उनसे नियमित तौर पर रिश्वत लेने का आरोप लगाया गया है।

सीबीआई के एक प्रवक्ता ने कहा कि एजेंसी ने शुक्रवार को दिल्ली, नोएडा और रांची में आठ जगहों पर छापेमारी की। उन्होंने कहा कि एजेंसी ने नोएडा प्राधिकरण में तत्कालीन मुख्य इंजीनियर यादव सिंह, गुल इंजीनियर्स कंपनी के मालिक जावेद अहमद, एसएमपी टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक साई राजू, मनीष कुमार और प्रेम प्रदीप, अबु इंफ्राकॉन प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक कुमार सौरभ और प्रेम प्रदीप के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

ये भी देखें : ब्लैकमनी का इंजीनियर : ED ने यादव सिंह की 5.9 करोड़ की संपत्ति की अटैच

एजेंसी ने संजय इलेक्ट्रीकल्स के संजय कुमार गुप्ता और रांची स्थित शाकंबरी प्रोजेक्ट्स के संजय कुमार शर्मा और नवीन ओखला औद्योगिक विकास प्राधिकरण (नोएडा) के अज्ञात अधिकारियों को भी मामले में नामजद किया है। आपराधिक साजिश, सरकारी पद का दुरुपयोग करने और आरोपी ठेकेदारों एवं कंपनियों से सिंह की ओर से रिश्वत लेने के आरोपों में केस दर्ज किया गया है। यह आरोप भी लगाया गया था कि यादव ने नोएडा के अन्य अधिकारियों, कर्मियों एवं उक्त ठेकेदारों के साथ साजिश कर करीब 116.39 करोड़ रुपए के कई ठेके पांच कंपनियों को दिए और ऐसा करते हुए नोएडा प्राधिकरण के नियमों एवं प्रक्रियाओं का घोर उल्लंघन किया। इससे नोएडा प्राधिकरण को काफी नुकसान हुआ जबकि ठेकेदारों एवं कंपनियों को खूब फायदा हुआ। सिंह पर पहले ही भ्रष्टाचार और आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के दो मामले चल रहे हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story