Top

चार साल से लापता है बेटा, अखिलेश ने नहीं सुनी गुहार...अब योगी से जागी आस

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 1 April 2017 2:20 PM GMT

चार साल से लापता है बेटा, अखिलेश ने नहीं सुनी गुहार...अब योगी से जागी आस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: आम आदमी जिसे अखिलेश यादव की सरकार में न्याय नहीं मिला, उसकी आस एक बार फिर जाग गयी है। उसे लगता है कि सीएम योगी आदित्यनाथ उसकी बात सुनेंगे, और उसके दुखों का अंत होगा। चार वर्ष से लापता बेटे की तलाश के लिये एक दंपत्ति ने सीएम को मेल लिख गुहार लगाई।

ये भी देखें :विश्व हिंदू महासंघ ने मनाई सपा सरकार की तेरहवीं, किया पिंडदान, बोले- मिलेगी आत्मा को मुक्ति

कछियाना में रहने वाले राजबहादुर कश्यप रोडवेज कर्मचारी हैं। परिवार में पत्नी ममता बेटी नेहा और बेटा अभिषेक था। 2012 में राज बहादुर के बेटे अभिषेक का अपहरण हो गया था। कल्याणपुर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी को जेल भेज दिया। कुछ दिन जेल में रहने के बाद अपराधी को जमानत मिल गई। लेकिन इन माँ बाप को अपना बेटा नही मिला। अभिषेक के अपहरण को चार साल से ज्यादा समय बीत चुका है। लेकिन अभीतक ये पता नहीं है, कि वो ज़िंदा है या उसकी मौत हो चुकी है ।

अभिषेक के पिता राज बहादुर ने बताया, कि अभिषेक को नवीन कुमार कुशवाहा अपने साथ मुम्बई गणेश महोत्सव देखने के लिए ले गया था। झांसी रेलवे स्टेशन के पास से नवीन ने फोन करके बताया, कि अभिषेक पता नहीं कहा चला गया। नवीन ने कहा की झांसी में ट्रेन छूट गयी है और मैं कानपुर वापस आ रहा हूँ। राज बहादुर का कहना है, कि बेटे की तलाश में मुंबई, अहमदाबाद, सूरत, दिल्ली और कई शहरो में भटके लेकिन उसका कोई पता नहीं चला ।

राज बहादुर ने रोते हुए बताया कि तमाम पोस्टमार्टम हाउस में बेटे कि तलाश की। राजबहादुर ने सपा सरकार में मुख्यमंत्री व प्रमुख सचिव से अपने बेटे के लिए गुहार लगाई, लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। बीते शुक्रवार को अभिषेक का जन्मदिन था, तब राजबहादुर ने न्याय की उम्मीद से नये मुख्यमंत्री को ईमेल कर गुहार लगाई।

अभिषेक की माँ ममता ने बताया कि जब से बेटा लापता हुआ है। तब से हम लोग दर दर भटक रहे हैं, न तो वो ज़िंदा मिल रहा है और न तो उसकी लाश मिल रही है। ममता रोते हुए बताती है कि न्याय की आस में कोर्ट कचहरी सब जगह भटक चुकी है, लेकिन आज तक न्याय नहीं मिला। नए मुख्यमंत्री को उम्मीद के साथ मेल किया है कि अब तो योगी जी के राज्य में न्याय मिले।

अगली स्लाइड्स में देखें शोकाकुल परिवार

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story