×

कलराज मिश्र बोले- LU कोई साधारण यूनिवर्सिटी नहीं, देश चौथी औद्योगिक क्रांति के लिए तैयार

केन्द्रीय मंत्री कलराज मिश्र और यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने शनिवार (08 अप्रैल) को लखनऊ यूनिवर्सिटी में एक इंटरनेशनल कांफ्रेंस का शुभारंभ दीप प्रज्वलित कर किया।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 8 April 2017 8:09 AM GMT

कलराज मिश्र बोले- LU कोई साधारण यूनिवर्सिटी नहीं, देश चौथी औद्योगिक क्रांति के लिए तैयार
X
कलराज मिश्र बोले- LU कोई साधारण यूनिवर्सिटी नहीं, देश चौथी औद्योगिक क्रांति के लिए तैयार
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: केंद्रीय सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्यम मंत्री कलराज मिश्र और यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने शनिवार (08 अप्रैल) को लखनऊ यूनिवर्सिटी में एक इंटरनेशनल कांफ्रेंस का शुभारंभ दीप प्रज्वलित कर किया। इस मौके पर लखनऊ यूनिवर्सिटी के वीसी प्रो. एसपी सिंह समेत कई अन्य लोग भी मौजूद रहे। कलराज मिश्र ने कहा कि जिस तरह भारत के अंदर डिजिटल इंडिया को बढ़ावा दिया जा रहा है उस आधार पर हम कह सकते हैं कि भारत चौथी औद्योगिक क्रांति के लिए तैयार है।

लखनऊ यूनिवर्सिटी कोई सामान्य यूनिवर्सिटी नहीं

-कलराज मिश्र ने कहा कि लखनऊ यूनिवर्सिटी कोई सामान्य यूनिवर्सिटी नहीं है।

-यहां से ऐसी-ऐसे लोग गए, जिन्होंने बहुत नाम कमाया।

-यह यूनिवर्सिटी मानव संसाधन को बनाने वाला है।

-यहां सभी क्षेत्रों में मानव संसाधन विकास का काम पूरी परिपक्वता के साथ होता है।

-मालवीय हाल में ये कार्यक्रम हो रहा है।

-जो कि महामना मदन मोहन मालवीय के नाम पर है।

-वो हर दृष्टिकोण से महामना थे। वो दूरदर्शी थे।

-इस हॉल में बैठकर उस दूरदर्शी महापंडित के विचारों के अनुरूप भारत की दूसरी पीढ़ी जो हिंदुस्तान को आगे बढ़ा सकेगी उस पर काम होना है, विचार होना है।

-दुनिया की आकांक्षा और अपेक्षा हिंदुस्तान की ओर है।

और क्या बोले कलराज मिश्र

-कलराज मिश्र ने कहा देश की प्रगति में आम आदमी भी सहभागी बने इसलिए पीएम मोदी ने जनधन योजना चलाई।

-जीरो बैलेंस का बैंक एकाउंट खुलवाया।

-जिसके पास 500 या 1000 रुपए हों उसको भी इकनोमिक सेन्स होना चाहिए।

-जब बैंक अधिकारी घर पर जाता था तो गरीब का भी स्वाभिमान जग जाता था।

-25 करोड़ परिवारों का बैंक एकाउंट खुला और 45 लाख करोड़ का इकनोमिक इन्क्लूजन हुआ।

-मुद्रा योजना पर बोलते हुए मंत्री कलराज मिश्र ने कहा कि मुद्रा से धोबी, नाई, सब्जी वाला ये सब लोग लाभान्वित हुए।

-पहले 20 हज़ार करोड़ दिए अब ये बढ़कर 1 लाख 25 हज़ार करोड़ हुआ और अब हम इसे 1 लाख 80 हज़ार करोड़ करने जा रहे।

-कलराज मिश्र ने कहा कि गांव का व्यक्ति पढ़ा लिखा नहीं, लेकिन स्वरोजगार को बढ़ावा देता है।

-कई औद्योगिक क्रांतियां इसी का परिणाम थीं। अब हमने इसके साथ टेक्नोलॉजी को जोड़ दिया।

-कलराज मिश्र ने कहा कि उद्योग टेक्नोलॉजी से जुड़ा और जो भी इस नए आधार पर काम करना चाहते हैं उनको सुविधा दी जाए।

-उद्यमिता का विकास और रोजगार का सृजन जरूरी है।

-इसमें मेरा मंत्रालय काम कर रहा है।

टेक्नोलॉजी और क्वालिटी का फ्यूज़न

-कलराज मिश्र ने कहा कि सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्योग किसी भी देश के विकास का आधार है।

-ये आधार स्तंभ है तो इसकी त्रुटियों और चुनौतियों पर ध्यान देना होगा।

-पीएम मोदी ने एलान किया कि हमारे यहां निवेश की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए मेक इन इंडिया पर काम करना होगा।

-अपने देश के मार्केट में कम्पटीशन के लिए मेक इन इंडिया को गुणवत्तापूर्ण बनाने के लिए स्किल इंडिया पर काम करना होगा।

-पीएम मोदी का सपना है कि प्रदूषण मुक्त को गुणवत्ता युक्त मैन्युफैक्चरिंग होनी चाहिए।

-इसके लिए टेक्नोलॉजी और क्वालिटी का फ्यूज़न होना चाहिए।

-हम 18 टेक्नोलॉजी स्टडी सेंटर स्थापित कर रहे ताकि सब लोगों को उनकी आवश्यकता अनुसार ट्रेनिंग मिल सके।

क्या बोले डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा?

-डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा सबसे ज्यादा रोजगार ग्रामोद्योग में मिलता है।

-अंग्रेजो ने इसी को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाया।

-जब से कलराज मिश्र लघु उद्योग के मंत्री हुए, तब से सरकार की प्राथमिकता ग्रामोद्योग ही रही।

-आई टी क्षेत्र में बेरोजगारों की बाढ़ आग गई है, लेकिन इस दिशा में हम बेहतर काम कर रहे।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story