×

UP Election 2022: आस्था और खाद-पानी से यूपी की सियासी फसल लहलहाने निकले PM मोदी

UP Election 2022: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्वांचल, बुंदेलखंड के बाद आज अवध को एक बड़ी सौगात देने के लिए पहुंच रहे हैं। इससे जहां लाखों किसानों को फायदा होगा।

Rahul Singh Rajpoot
Published on 11 Dec 2021 5:34 AM GMT
PM Modi in UP
X

यूपी में पीएम मोदी (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

UP Election 2022: भारतीय जनता पार्टी के लिए उत्तर प्रदेश का चुनाव (UP Election) साख का सवाल है, क्योंकि उन्हें मालूम है कि 2022 (UP Election 2022) की फतेह के बिना 2024 की राह आसान नहीं होगी। इसीलिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कमान संभाल ली है और ताबड़तोड़ यूपी का दौरा कर आस्था, सड़क, खाद, पानी से सियासी फसल को सींचने लगे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्वांचल, बुंदेलखंड के बाद आज अवध को एक बड़ी सौगात देने के लिए पहुंच रहे हैं। इससे जहां लाखों किसानों को फायदा होगा। वहीं 2022 (UP Election 2022) में भाजपा इसके बलबूते पर अपनी जीत की नींव मजबूत करने की कोशिश करेगी।

पीएम मोदी का बलरामपुर दौरा?
PM Modi Ka Balrampur Daura

यूपी चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जहां पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का उद्घाटन (Purvanchal Expressway Inauguration) कर एक बड़ी सौगात दी। वहीं गोरखपुर में एम्स और खाद कारखाने का लोकार्पण लोगों का भरोसा और विश्वास जीतने का भरसक प्रयास किया। इसके साथ ही प्रधानमंत्री बुंदेलखंड की प्यास बुझाने भी पहुंचे और वहां के विकास का पूरा खाका खींचा।

आज इसी क्रम में वह अवध की धरती पर पहुंच रहे हैं। वह बलरामपुर में सरयू नहर का लोकार्पण (saryu canal project) करेंगे। सरयू नहर के लोकार्पण से लाखों किसानों को जहां फायदा होगा वहीं बीजेपी किसानों को साध कर इससे 9 जिलों में अपनी जीत का राश्ता प्रशस्त करेगी। सरयु नहर लोकार्पण (saryu canal project) की तैयारियां भव्य हैं और इसमें आज केंद्र से लेकर उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल समेत केंद्र और यूपी कैबिनेट के तमाम मंत्री मौजूद रहेंगे।

फोटो- सोशल मीडिया

29 लाख किसानों को साधने की तैयारी

सरयू नहर परियोजना की शुरुआत 1978 में हुई थी, लेकिन चार दशक ने भी यह पूरी नहीं हो पाई थी। हर चुनाव में इसे पूरा करने का आश्वासन देकर सियासी फसल काटने की कोशिश होती रही है। 2017 में यूपी में बीजेपी सरकार(BJP Sarkar) बनने के बाद इस पर तेजी से कार्य हुआ और अब 2022 के चुनाव (UP Election) से पहले इसका लोकार्पण कर पीएम मोदी लाखों किसानों को साधने की कोशिश करेंगे।

2017 में यूपी की सत्ता में आने के बाद योगी सरकार(Yogi Sarkar) ने इस पर तेजी से काम शुरू किया और 9 जिलों को जोड़ने वाली इस परियोजना का कार्य पूरा हो गया है। 9800 करोड़ की लागत से तैयार 6623. 44 किलोमीटर लंबी इस नहर से अवध और पूर्वांचल के बहराइच, गोंडा, श्रावस्ती, बलरामपुर, बस्ती, सिद्धार्थनगर, संतकबीरनगर, गोरखपुर और महाराजगंज जिले के 29 लाख किसानों को सौगात मिलेगी।

फोटो- सोशल मीडिया

14.4 लाख हेक्टेयर सिंचाई की अतिरिक्त क्षमता में वृद्धि होगी। यही नहीं इस नहर की पटरी पर बने करीब 5000 किलोमीटर सेवा मार्ग और संपर्क मार्ग के रूप में ग्रामीणों की राह आसान बनाएंगे। राप्ती नहर के दोनों किनारों पर खासतौर से बनाए गए 8.8 मीटर चौड़े सेवा मार्ग भविष्य में नेपाल के साथ बॉर्डर रोड के रूप में भी काम आ सकेंगे।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2014 के लोकसभा चुनाव में उसके बाद सभी चुनाव में पूर्व की सरकारों में दशकों से किए जा रहे वादों और लंबित प्रोजेक्टों का मुद्दा बनाते रहे हैं। इनमें गोरखपुर के उर्वरक कारखाने से लेकर विद्यांचल की बाणसागर परियोजना (Bansagar Pariyojana), अवध व पूर्वांचल की सरयू व राप्ती नहर परियोजना (Saryu and Rapti Canal Project) के साथ बुंदेलखंड की अर्जुन सहायक परियोजना (arjun sahayak pariyojana) तथा केन बेतवा लिंक जैसी नहर परियोजना में शामिल रहे हैं।

फोटो- सोशल मीडिया

लोकसभा चुनाव (LokSabha Chunav) से पहले दो दशक से लंबित बाणसागर परियोजना 2018 में ही पूरी हो गई थी। पिछले नवंबर महीने में पीएम मोदी ने महोबा (Mahoba Mein PM Modi) में अर्जुन सहायक परियोजना की भी शुरुआत कर दी। इसके साथ ही 31 वर्ष से बंद चल रहे गोरखपुर कारखाने को बीते मंगलवार को उद्घाटन किया।

इस खाद कारखाने के लोकार्पण से किसानों के लिए खाद का संकट खत्म करने में बड़ी मदद मिलने वाली है। बाकी प्रोजेक्ट का उद्घाटन व शिलान्यास इन उपलब्धियों को चुनाव से पहले धूमधाम से जनता तक पहुंचाने की योजना है।

फोटो- सोशल मीडिया

13 दिसंबर को काशी में भव्य कार्यक्रम

Kashi Vishwanath Dham Inauguration Program

जाहिर है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पानी, बिजली, सड़क के साथ आस्था के सहारे भी 2022 का चुनाव को साधने की पूरी कोशिश में है। 13 दिसंबर को प्रधानमंत्री काशी विश्वनाथ धाम (Kashi Mein PM Modi) का लोकार्पण करेंगे जो अलौकिक, अद्भुत और अकल्पनीय होगा। इसके लोकार्पण के लिए बीजेपी पूरी तैयारी की है। एक महीने तक कार्यक्रम होगा और करीब 3000 मेहमान काशी पहुंचेंगे।

इसके साथ ही 27,700 शक्ति केंद्रों में शिवालय तथा प्रमुख मठ मंदिरों में व्यवस्थित रूप से इस स्क्रीन लगाकर 13 दिसंबर के कार्यक्रम का सीधा प्रसारण किया जाएगा। कार्यक्रम की भव्यता का आप इस तरह से अंदाजा लगाइए कि लोकार्पण के बाद काशी के घाटों पर सजने वाली शिव दीपावली में भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री क्रूज पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई करेंगे। इसमें यूपी-बिहार के साथ ही 12 राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल होंगे। इसके साथ ही अयोध्या को भी इसी महीने इंटरनेशनल एयरपोर्ट की भी सौगात मिलने जा रही है।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story