‘जॉली एलएलबी 2’ के बारे में हाई कोर्ट के फैसले पर कुछ ऐसा बोले अक्षय कुमार, क्या जानते हो आप?

Published by Published: February 8, 2017 | 10:20 am
Modified: February 8, 2017 | 10:21 am

मुंबई: बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार की अपकमिंग फिल्म ‘जॉली एलएलबी 2’ 10 फरवरी को रिलीज होने वाली है। इस फिल्म में अक्षय कुमार के साथ हुमा कुरैशी और अन्नू कपूर भी हैं। फिल्म ‘जॉली एलएलबी 2’ में अक्षय कुमार एक वकील के रोल में नजर आने वाले हैं। आपको बता दें कि यह फिल्म रिलीज होने से पहले विवादों में फंस गई है। खबरों की मानें बॉम्बे हाईकोर्ट ने 6 फरवरी को फिल्म ‘जॉली एलएलबी 2’ के 4 सींस पर कैंची चलाने को कहा है। हाईकोर्ट की औरंगाबाद बेंच ने कहा कि इस फिल्म से आपत्तिजनक 4 सींस हटाने के बाद ही ये फिल्म रिलीज हो सकती है।

इतना ही नहीं, जयपुर की एक कोर्ट ने भी इस फिल्म के ट्रेलर में वकीलों के खिलाफ अशोभनीय टिप्पणी करने के मामले में अक्षय और फिल्म के डायरेक्टर को समन जारी कर 10 मार्च को तलब किया है।

 लेकिन कोर्ट के इस फैसले का खिलाड़ी कुमार ने सम्मान किया है उन्हें कोर्ट के इस फैसले से कोई ऐतराज नहीं है।

आगे की स्लाइड में जानिए क्या बोले खिलाड़ी अक्षय कुमार

Jolly LLB-2 पर चली कोर्ट की कैंची, कहा- पहले हटाओ 4 सीन, तभी होगी रिलीज
फिल्म ‘जॉली एलएलबी 2’ में चार कट लगने के बारे में अक्षय कुमार का कहना है कि ‘हाईकोर्ट ने चार सीन नहीं हटाए हैं, बस एक सीन में चार कट किए हैं। मैंने कई बार सुना कि कोर्ट ने चार सीन हटा दिए हैं। अक्षय आगे कहते हैं कि अगर कोर्ट को फिल्म के किसी भी सीन से कोई आपत्ति है, तो उन्हें हटाने में हमें कोई दिक्कत नहीं है। हमें उनका हर फैसला स्वीकार होगा और हम पहले भी ऐसा कर चुके हैं।
न्यायपालिका और कानूनी पेशे को किया बदनाम
-दरअसल मध्य प्रदेश के एक वकील अजय कुमार वाघमारे की याचिका पर बॉम्बे कोर्ट ने ये आदेश दिया है।
-याचिका दायर होने के बाद कोर्ट ने 3 मेंबर्स की कमेटी (एमिकस क्यूरी) का गठन किया था।
-जिसको फिल्म देखकर अपनी रिपोर्ट कोर्ट को सौंपनी थी।
-फिल्म देखकर कमेटी ने ‘जॉली एलएलबी 2’ से 4 सीन हटाने की सिफारिश की है।
-कमेटी ने फिल्म को रिव्यू करने के बाद इसके कुछ सींस को न्यायपालिका और कानूनी पेशे को बदनाम करने का दोषी पाया है।
आगे की स्लाइड में जानिए क्या कहा गया है याचिका में ?

-वकील वाघमारे ने याचिका में कहा कि इस फिल्म में इंडियन लीगल प्रोफेशन और ज्यूडिशियल सिस्टम को इस तरह से पेश करने की कोशिश की गई है, जिस पर लोग हंसेंगे।
-जस्टिस एसएस शिंदे और जस्टिस केके सोनावने की बेंच ने सोमवार को मामले की सुनवाई की।
-बेंच ने फिल्म के डायरेक्टर को 4 सीन हटाने का आदेश दिया और कहा कि ये सींस हटाने के बाद ही फिल्म को रिलीज किया जाए।

इन सीन पर है आपत्ति ?
-कोर्ट में हुए हंगामे के डर से मेज के नीचे छिपते हुए जज का सीन।
-कोर्ट में जूता फेंकने का सीन।
-अनुचित इशारे किए जाने का सीन।
-कोर्ट की कार्रवाई के दौरान बोले गए डायलॉग्स।