विजय आनंद का ऐसा था निर्देशक बनने का सफर, फिल्म गाइड से मिली पहचान

हिंदी सिनेमा के दिग्गज निर्माता-निर्देशकों में से एक विजय आनंद ने कई बेहतरीन फिल्मों का निर्माण किया। विजय आनंद को गोल्डी आनंद के नाम से भी जाना जाता था।

Published by Monika Published: January 22, 2021 | 11:39 am
विजय आनंद

विजय आनंद (file pic )

मुंबई: हिंदी सिनेमा के दिग्गज निर्माता-निर्देशकों में से एक विजय आनंद कई बेहतरीन फिल्मों का निर्माण किया। विजय आनंद को गोल्डी आनंद के नाम से भी जाना जाता था। विजय आनंद एक बेहतरीन निर्माता-निर्देशक होने से साथ साथ स्क्रीनराइटर, एडिटर होने के साथ ही अभिनेता भी थे। उनकी कुछ लोकप्रिय फिल्मों में गाइड (1965), तीसरी मंजिल (1966) ,ज्वेल थीफ (1967) और जॉनी मेरा नाम (1970) रही। जिसके चलते उन्हें आज भी याद किया जाता है। आज ही के दिन  22 जनवरी1934 को विजय आनंद का जन्म हुआ था।

देव आनंद के भाई थे विजय आनंद

विजय आनंद का जन्म पंजाब के गुरदासपुर में हुआ था, जो एक सफल और संपन्न वकील, किशोरी लाल आनंद के बेटे थे। निर्माता और निर्देशक चेतन आनंद और प्रसिद्ध अभिनेता देव आनंद उनके भाई थे।

हालांकि, विजय आनंद एक अभिनेता, स्क्रीनराइटर, संपादक और निर्माता के रूप में कैरियर रहा है, लेकिन उन्हें मुख्य रूप से एक निर्देशक के रूप में याद किया जाता है । उन्होंने 1957 में अपने निर्देशन की शुरुआत नौ दो ग्याराह से की। इस फिल्म में विजय के भाई देव आनंद ने प्रमुख भूमिका निभाई थी, जो केवल 40 दिनों में शूट किया गया था।

इन फिल्मों ने पर्दे पर किया कमाल

निर्देशक के रूप में विजय आनंद की कुछ अन्य सफल फिल्में हैं काला बाजार (1960), तेरे मेरे सपने (1971), राम बलराम और राजपूत । इन सभी फिल्मों को नवकेतन फिल्मों द्वारा बनाया गया था। इस प्रोडक्शन कंपनी की शुरुआत खुद आनंद भाइयों ने की थी। विजय आनंद अपने स्टाइलिश गीतों को फिल्माने के लिए जाने जाते थे, जैसे ओ हसीना (तीसरी मंज़िल), काटों से खीच के ये आँचल (गाइड) और होंटों में ऐसी ऐसी बात (ज्वेल थीफ़)। को पर्दे पर दर्शकों का खूब प्यार मिला।

ये भी पढ़ें : करीनी और सारा अली खान के बीच कैसे हैं संबंध, एक्टर्स ने बताया ये सच

अभिनेता के रूप में विजय आनंद की फ़िल्में

विजय आनंद को एक अभिनेता के रूप में सबसे यादगार भूमिकाओं में हकीकत (1964), कोरा कागज़ (1974), (जिसमें उन्होंने जया बच्चन के साथ अभिनय किया) और तुलसी तेरे आंगन की (1978) में देखा गया। यही नहीं फिल्मों के साथ साथ टीवी की दुनिया में भी विजय ने नाम कमाया था उन्होंने1990 के दशक की युवा पीढ़ी के लिए टेलीविजन सीरियल तहकीकात (1994) में जासूसी सैम का किरदार निभाया था।

गोल्डी, जैसा कि उन्हें प्यार से बुलाया गया था, 23 फरवरी 2004 में  दिल का दौरा पड़ने से 70 साल की उम्र में उनकी मृत्यु हो गई थी।

ये भी पढ़ें : वरुण-नताशा की शादी में शामिल होंगे ये दिग्गज, यहां देखें पूरी लिस्ट

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App