×

Javed Akhtar on Hijab Row: तेज़ी से तूल पकड़ रहा हिजाब विवाद, अब सामने आया गीतकार जावेद अख्तर का बयान

Javed Akhtar on Hijab Row: जावेद अख्तर ने ट्वीट के माध्यम से हिजाब को लेकर अपने विचार प्रस्तुत किए हैं।

Rajat Verma
Updated on: 10 Feb 2022 8:50 AM GMT
Javed akhtar on Karnataka  hijab row
X

जावेद अख्तर (फोटो : सोशल मीडिया ) 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Javed Akhtar on Hijab Row: कर्नाटक (Karnataka) में हिजाब को लेकर बीते सप्ताह से चल रहा विवाद व्यापक रूप ले चुका है तथा इस बीच यह मामला कर्नाटक सहित अन्य राज्यों तक भी पहुंच गया है, जहां महिलाएं कॉलेजों में हिजाब (Hijab Controversy) पहनने के साथ प्रवेश को लेकर मांग कर रही हैं। कर्नाटक में तेजी से फैल रहे इस हिजाब प्रकरण (Hijab Controversy) पर अब तक कई नेताओं और संभ्रांत व्यक्तियों ने अपने विचार रखे हैं, जिसमें प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) , लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav), नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई जैसे लोगों का नाम शामिल है।

अब इस मामले पर मशहूर गीतकार जावेद अख्तर (Javed akhtar) का बयान सामने आया है। जावेद अख्तर ने ट्वीट के माध्यम से हिजाब को लेकर अपने विचार प्रस्तुत किए हैं तथा हिजाब पहने एक लड़की को घेरकर किए गए नारेबाजी के विषय में भी अपनी बात कही है।

जावेद अख्तर का ट्वीट (Javed Akhtar tweet)

जावेद अख्तर ने इस ट्वीट में लिखा है कि-"मैं कभी भी हिजाब या बुर्का के पक्ष में नहीं रहा और मैं अब भी उस पर कायम हूं, लेकिन साथ ही मेरे मन में इन गुंडों की भीड़ के लिए गहरी अवमानना के अलावा और कुछ नहीं है, जो लड़कियों के एक छोटे समूह को डराने-धमकाने की कोशिश कर रहे हैं और वह भी असफल रूप से। क्या यही उनका "मर्दानगी" की परिभाषा है। यह बेहद ही अफ़सोस की बात है।

जावेद अख्तर के कई देश-विदेश के कई मशहूर लोगों ने अपनी राय साझा की है। शांति नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई ने इस मामले में अपने विचार साझा करते हुए कहा था कि महिलाओं को हिजाब पहनकर कॉलेज में प्रवेश से रोकने का निर्णय बेहद ही भयावह है और देश के राजनेताओं को इस मामले में विचार करने की आवश्यकता है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी इस मामले को लेकर ट्वीट करते हुए लिखा था कि महिलाओं को उनकी मर्जी के मुताबिक कपड़े पहनने की आज़ादी है भारत का संविधान उन्हें यह अधिकार प्रदान करता है।

Monika

Monika

Next Story