ALERT: मानसून के जमकर उठा सकेंगे मजे, बस इन 6 बीमारियों से बचें

Published by shalini Published: June 29, 2016 | 3:18 pm
Modified: June 29, 2016 | 3:22 pm

[nextpage title=”NEXT” ]

MONSOON

लखनऊ: बारिश का नाम लेते ही बचपन के दिन याद आ जाते हैं! एक तरफ जहां बच्चे बारिश के पानी में छम छम करते नजर आते हैं! वहीं दूसरी ओर बड़े भी खुद को छपाक-छई करने से नहीं रोक पाते हैं! बारिश के मौसम में गर्म चाय के साथ गर्म समोसों का मजा हर किसी के दिल को लुभाता है! पर इन दिनों घर के बाहर और नालियों में पानी के साथ ना जाने कितनी तरह की बीमारियां जमा हो जाती हैं, इसका कोई अंदाजा भी नहीं लगा पाता है! इतना ही नहीं बारिश के मौसम में बीमारियों के होने का भी खतरा बना रहता है। आइए आपको बताते हैं कि मानसून के मौसम में आपको कौन कौन सी बीमारियां हो सकती हैं, जिनसे आपको सतर्क होने की जरुरत है!

आगे की स्लाइड में पढ़िए मानसून में होने वाली बीमारियों के बारे में

[/nextpage]

[nextpage title=”NEXT” ]

MONSOON
मलेरिया: बारिश की शुरुआत होते ही घरों और आस-पास के एरिया में पानी भरना शुरु हो जाता है और इनमें मलेरिया के मच्छर पनपना शुरु हो जाते हैं! जिसकी वजह से अक्सर लोगों को मलेरिया की शिकायत हो जाती है इससे बचाव के लिए आपको अपनी पानी की टंकी को साफ करते रहना चाहिए। इतना ही नहीं आस पास अगर किसी तरह का पानी इकट्ठा हुआ हो तो उसे भी फेंक देना चाहिए। बुखार, मांसपेशियों में दर्द और कंपकंपाना मलेरिया के लक्षण होते हैं।

आगे की स्लाइड में पढ़िए डेंगू के बारे में

[/nextpage]

[nextpage title=”NEXT” ]

MONSOON
डेंगू: ज्यादातर लोगों का मानना होता है कि बीमारी के मच्छर गंदी नालियों में ही पनपते हैं पर आपको यह जानकर हैरानी होगी कि डेंगू का मच्छर नालियों में ही नहीं साफ पानी में भी पैदा हो सकता है, इसलिए पानी को हमेशा ढंक कर रखें और आस-पास पानी इकट्ठा ना होने दें। डेंगू की बीमारी के लक्षण जोड़ों, शरीर में दर्द हो सकते हैं। ऐसे में आप पूरे कपड़े पहनकर ही रखें।

आगे की स्लाइड में पढ़िए चिकनगुनिया के बारे में

[/nextpage]

[nextpage title=”NEXT” ]

MONSOON
चिकनगुनिया: चिकनगुनिया एक ख़ास तरह का फीवर होता है यह मच्छरों के काटने से होता है। यह मच्छर रुके हुए पानी में प्रजनन करते हैं और दिन में ही काटते हैं। चिकनगुनिया में आपको बुखार, जोड़ों में दर्द आदि लक्षण देखने को मिलते हैं। इसमें आप इंसेक्ट रिपेलेंट का इस्तेमाल कर खुद को सुरक्षित कर सकते हैं।

आगे की स्लाइड में पढ़िए टायफाइड के बारे में

[/nextpage]

[nextpage title=”NEXT” ]

MONSOON
टायफायड: मानसून में एक बीमारी किसी न किसी को अपना शिकार बनाए ही रखती है वह है टायफायड की यह एक ऐसी बीमारी हैं, जो पानी से पैदा होती हैं अक्सर यह मानसून के दौरान होती है। यह दूषित पानी और खाने से फैलती है। इस बीमारी के लक्षण सर्दी, गले में खराश, बुखार आदि हो सकते हैं।

आगे की स्लाइड में पढ़िए वायरल फीवर के बारे में

[/nextpage]

[nextpage title=”NEXT” ]

MONSOON
वायरल बुखार: वायरल बुखार ऐसे तो हर मौसम में होता है, लेकिन मानसून के दौरान यह काफी अधिक होता है, ऐसे में सर्दी, जुकाम और बुखार जल्दी जल्दी होने लगता है ऐसे में अगर आप मानसून का भरपूर मजा लेना चाहते हैं, तो आपको अपनी सेहत का खास ख्याल रखना होगा।

आगे की स्लाइड में पढ़िए पीलिया के बारे में

[/nextpage]

[nextpage title=”NEXT” ]

MONSOON8

पीलिया: पीलिया दूषित पानी और भोजन खाने के कारण होता हैं, पीलिया के लक्षण पीला मूत्र, उल्टी, कमजोरी आदि होते हैं। ऐसे में आप उबला पानी पिएं और बाहर का खाना खाना बिल्कुल छोड़ दें। बारिश में अगर अपनी सेहत का ख्याल रखना है तो उबले पानी को पिने के साथ साथ फुल आस्तीन के कपड़े पहनें।

[/nextpage]