यूनिसेफ देगा देशी गर्ल को ये सम्मान, जिससे बढ़ेगा देश का सम्मान

यह न्यूयॉर्क का सबसे प्रतिष्ठित अवॉर्ड समारोह है, जिसमें यूनिसेफ की ओर से मानवता की भलाई के लिए काम करने वाले लोगों को अवॉर्ड्स दिए जाते हैं। इस समारोह का आयोजन तीन दिसंबर को न्यूयॉर्क में किया जाएगा।

मुंबई: यूनिसेफ की गुडविल एंबेसडर प्रियंका चोपड़ा को न्यूयॉर्क के प्रतिष्ठित समारोह यूनिसेफ स्नो फ्लेक बॉल में सम्मानित किया जाएगा। यूनिसेफ यूएसएस ने ट्विटर पर यह जानकारी देते हुए बताया कि प्रियंका को डैनी काये ह्यूमैनिटेरियन अवॉर्ड दिया जाएगा।

यह न्यूयॉर्क का सबसे प्रतिष्ठित अवॉर्ड समारोह है, जिसमें यूनिसेफ की ओर से मानवता की भलाई के लिए काम करने वाले लोगों को अवॉर्ड्स दिए जाते हैं। इस समारोह का आयोजन तीन दिसंबर को न्यूयॉर्क में किया जाएगा।

ये भी देंखे:दिल्ली BJP मुख्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं भूपेंद्र यादव और ओम माथुर

इस बात पर खुशी जताते हुए प्रियंका चोपड़ा ने कहा, ‘मैं यूनिसेफ स्नोफ्लेक बॉल पर डैनी काये ह्यूमैनिटेरियन अवॉर्ड के साथ मुझे सम्मानित करने के लिए यूनिसेफ यूएसए की बहुत आभारी हूं। दुनिया के सभी बच्चों की ओर से उनकी शांति, स्वतंत्रता और शिक्षा का अधिकार के लिए यूनिसेफ के साथ काम करना ही मेरे लिए सब कुछ है।’

View this post on Instagram

This is Hasina (15), she is a 7th grade student who loves to go to school. She used to live with her sister and her husband, and without her knowing, her sisters’ husband was arranging her marriage to one of his friends…she was 12 at the time. One day when the man visited her house to pester her parents to marry her, she escaped to a friends house and the next day went to one of the community-based child’s marriage prevention platforms (alone), which she had heard about at school. She asked herself, if She married now, would she ever go back to school again? Hasina loves learning and wasn’t willing to trade her education or freedom for anything.That gave her the courage to stand up for herself. The community, along with the authorities, stepped in and stopped the marriage. The man was charged. It’s important to understand that it takes an immense amount of courage to go against these cultural “norms” that have existed for centuries. Hasina is a very brave girl. It was so heartening to see the elders in the community learning from the examples these young girls are setting, standing up against child marriage and female genital mutilation/cutting. Education gave these girls that perspective. This community is an example of how change is possible. FEMALE RIGHTS ARE HUMAN RIGHTS. To make a difference and learn more about @Unicef’s efforts, visit UNICEF. Link in bio.

A post shared by Priyanka Chopra Jonas (@priyankachopra) on

प्रियंका साल 2006 से यूनीसेफ से जुड़ी हैं। साल 2010 और 2016 में उन्हें बाल अधिकार के लिए राष्ट्रीय और वैश्विक यूनीसेफ गुडविल एंबेसडर नियुक्त किया गया था। वह पर्यावरण, स्वास्थ्य, शिक्षा और महिलाओं के अधिकारों को बढ़ावा देने के साथ ही साथ लैंगिक समानता और नारीवाद के बारे में भी हमेशा बात करती हैं।

ये भी देंखे:IndVsNZ: मैच पर मंडरा रहा है बारिश का साया, 57 रन बनाते ही कोहली बनाएंगे ये रिकॉर्ड

बता दें कि प्रियंका चोपड़ा के अलावा स्प्रिट ऑफ कम्पेशन अवॉर्ड यूनिसेफ सपोर्टर्स मर्जोलेन और इवाउट स्टीन बर्जेन को मिलेगा।