जियो का आरोप, लैंडलाइन नंबर से ‘खेल’ कर रहीं एयरटेल, वोडा

रिलायंस जियो ने भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया सहित अन्य ऑपरेटरों पर धोखाधड़ी कर अपने वायरलाइन नंबर्स को मोबाइल नंबर्स के तौर पर प्रचारित कर अनुचित आंकड़े पेश करने का आरोप लगाया है।

नई दिल्ली: रिलायंस जियो ने भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया सहित अन्य ऑपरेटरों पर धोखाधड़ी कर अपने वायरलाइन नंबर्स को मोबाइल नंबर्स के तौर पर प्रचारित कर अनुचित आंकड़े पेश करने का आरोप लगाया है।

इसके साथ ही जियो ने अपील की है कि नियमों का उल्लंघन करने के चलते इन सभी पर ट्राई को उन पर “गंभीर जुर्माना” लगाना चाहिए।

हालांकि, भारती एयरटेल यह कहते हुए मुकाबला भी कर रही है कि जियो कनेक्शन चार्ज पर कॉल के आगे नियामकों को गुमराह करने की कोशिश कर रहा है (जिसे इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज भी कहा जाता है।

जियो ने लगाया ये आरोप

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) के एक अन्य पत्र में, जियो ने आरोप लगाया कि जियो ने पत्र में लिखा है, ‘एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और बीएसएनएल ने अगत तरीके से कई उद्योगों को कस्टमर केयर और हेल्पलाइन नंबर के तौर पर मोबाइल नंबर बांटे।

जबकि सच्चाई यह है कि ये मोबाइल नंबर केवल एक वर्चुअल नंबर के तौर पर इस्तेमाल किए जाते हैं। ऐसे में कॉल का नेचर मोबाइल से वायरलाइन और मोबाइल से मोबाइल में बदल गया और इस तरह इन कंपनियों ने धोखाधड़ी की।

जियो ने ट्राई से की ये मांग

इस कारण जियो को इन कंपनियों को 6 प्रति मिनट की दर से इंटरकनेक्ट चार्ज देना पड़ा। नुकसान सैकड़ों करोड़ में चल रहा है, लेकिन इससे सरकारी खजाने को नुकसान भी हो रहा है।

इसके साथ ही उसी समय, इसने पुराने ऑपरेटरों पर ग्राहकों संबंधित आंकड़ों को बढ़ाने की बात भी कही है। इस बारे में जियो ने कहा, ट्राई को “इन गंभीर उल्लंघनों का तत्काल संज्ञान लेने” के आगे आना चाहिए।

जियो का तीखा हमला ऐसे समय में हुआ है जब उद्योग ने एक बार फिर से एक वचुअर्ल युद्ध के मैदान में कदम रखा है, जो असाध्य ऑपरेटरों के साथ है और कॉल कनेक्ट शुल्क पर टेलीकॉम सेक्टर की नई कंपनी से टकराव किया जा रहा है।

ऐसे होती थी धोखाधड़ी

पुराने ऑपरेटरों के खिलाफ एक नए सिरे से आक्रामक शुरुआत करते हुए, जियो ने ट्राई के चेयरमैन आरएस शर्मा को एक पत्र भेजा है जिसमें कहा गया है कि एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और बीएसएनएल ने एक खास प्रक्रिया के तहत कई उद्योगों को कस्टमर केयर और हेल्पलाइन नंबर के तौर पर मोबाइल नंबर बांटे। ये मोबाइल नंबर केवल एक वर्चुअल नंबर के तौर पर इस्तेमाल किए जाते हैं ताकि कॉल्स को सीधे कॉल सेंटर्स से रूट किया जा सके।

इस कारण ये कॉल के नेचर को मोबाइल से वायरलाइन और मोबाइल से मोबाइल में बदल देता था जो कि एक धोखाधड़ी है। इस तरीके का इस्तेमाल कर एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और बीएसएनएल गैरकानूनी तरीके का इस्तेमाल कर जियो से 6 पैसे प्रति मिनट की दर से इंटरकनेक्ट चार्ज वसूल रहे थे।’

पुराने ऑपरेटर अपने कस्टमर केयर / हेल्पलाइन नंबरों जैसे उद्यमों को मोबाइल नंबर दे रहे हैं, लेकिन ऐसी सभी कॉल वास्तव में फिक्स्ड लाइनों के बजाय समाप्त हो रही हैं, कॉल और भुगतान दायित्वों के चरित्र को बदल रही हैं।

मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस जियो ने तर्क दिया है कि इस मोडस ऑपरेंडी ने जियो के नेटवर्क पर इस तरह के नंबरों के लिए आउटगोइंग कॉल के प्रत्येक मिनट के लिए इसे 0.58 रुपये से वंचित किया है।

टर्मिनेशन चार्ज में हो रही है गड़बड़ी

जियो ने अफसोस जताया कि न केवल 6 पैसे प्रति मिनट के टर्मिनेशन चार्ज में गड़बड़ी हो रही है (क्योंकि इन कॉल्स को कथित तौर पर मोबाइल टर्मिनेशन के तौर पर दिखाया जा रहा है), लेकिन यह इस तरह के कॉल्स के लिए 0.52 / मिनट के राजस्व से भी कम हो रहा है (चार्ज) मूल ऑपरेटर को ऐसे टोल फ्री कॉल पर तथ्य प्राप्त करना चाहिए)।

जियो ने कहा कि यह भी संदेह है कि ऐसे हजारों नंबर पुराने ऑपरेटरों द्वारा बाजार में चालू हैं, और जांच के लिए उपयोग में लाए गए ऐसे नंबरों की सूची के साथ नियामक को भी आपूर्ति की है।

जियो ने कहा कि “यह काम काफी समय से चल रहा और ये भी स्पष्ट है कि इस तरह के अवैध, धोखाधड़ी और धोखाधड़ी आधारित संचालन के परिणामस्वरूप आरजेआईएल नेटवर्क पर लाखों घंटे उत्पन्न हुए हैं, जिसे वायरलाइन समाप्ति के बजाय मोबाइल समाप्ति मिनट माना जाता है।”

जियो ने यह भी तर्क दिया कि यह जियो और पुराने ऑपरेटरों के बीच “स्पष्ट यातायात विषमता” पर ट्राई को प्रभावित करने के लिए भी किया गया था, जिसमें कहा गया था कि नियामक द्वारा आईयूसी नियमों को दिया गया एकमात्र कारण था।

जियो ने ट्राई से सीधे पुराने ऑपरेटरों को कथित धोखाधड़ी धोखाधड़ी प्रथाओं को रोकने के लिए कहा, उन पर गंभीर दंड लगाया जाए और इस में दो निजी दूरसंचार कंपनियों के साथ भारत संचार निगम लिमिटेड का नाम भी दिया है। इन पर विभिन्न मानदंडों के संपूर्ण उल्लंघन के लिए ताकि सेवा करने के लिए निवारक है।

जियो ने ट्राई को दिया ये सुझाव

जियो ने नियामक से लाइसेंस की शर्तों का उल्लंघन करने के लिए उच्चतम दंड लगाने के लिए लाइसेंसकर्ता (दूरसंचार विभाग) की आवश्यकता का भी आग्रह किया है, जो दूरसंचार को लागू मोबाइल समाप्ति शुल्क राशि ब्याज सहित जियो वापस करने का निर्देश दिया जाए।

इसने ट्राई को यह भी सुझाव दिया है कि रिलायंस जियो नेटवर्क से उत्पन्न होने वाली ऐसी सभी कॉल्स के लिए प्रति प्रत्यक्ष ऑपरेटर को 0.36 प्रति मिनट का न्यूनतम शुल्क देना होगा।

एयरटेल प्रवक्ता ने कहा कि “एंटरप्राइज़ ग्राहकों को जियो द्वारा एक विशिष्ट लाइन या किसी अन्य मोबाइल नंबर पर स्थानांतरित करने के लिए संदर्भित किया जाता है क्योंकि यह डीओटी द्वारा समर्थित है। ऑपरेटर को इसमें कोई नुकसान नहीं है क्योंकि ग्राहक के पास हमेशा एक मोबाइल होता है और निश्चित लाइन नंबर नहीं होता है।”

जियो ने ट्राई कॉल चार्ज की समीक्षा की

जियो ने हाल ही में ट्राई कॉल चार्ज की समीक्षा को एक “प्रतिगामी” कदम के रूप में बताया था, जो कि हानिकारक सब्सक्राइबर्स और खुद जैसे पेनल्टी ऑपरेटर्स को नुकसान पहुंचाएगा, जबकि पुराने ऑपरेटरों के लिए “विंडफॉल” लाभ जारी है जो नई तकनीकों से दूर हट रहे हैं।

जनवरी 2020 से परे प्रतिद्वंद्वी नेटवर्क पर शुल्क समाप्त करने की समय सीमा की समीक्षा करने के लिए ट्राई के कदम ने जियो को हाल ही में अपने उपयोगकर्ताओं पर 6 पैसे प्रति मिनट का शुल्क लगाने के लिए मजबूर किया था, जिससे जीवन के लिए इसकी फ्री कॉल व्यवस्था प्रभावी रूप से समाप्त हो गई थी।

ये भी पढ़ें…वाह रिलायंस जियो! आईएमसी 2019 में जियो ने बॉट को रखा दुनिया के सामने

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App