×

भारत से डर गया Zoom, बना ली चीन से दूरी, ये है वजह....

मोदी सरकार ने 59 चीनी ऐप्स बैन कर दिया है। ऐसे में अमेरिकी सोशल वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप जूम (Zoom) ने चीनी निवेश और चीन के लोगों की हायरिंग  से दूरी बना ली है। और आगे वहां के लोगों की हायरिंग नहीं करने का एलान किया है। जूम  ने साफ किया कि आने वाले दिनों में भारत में लोकल टैलेंट को मौका दिया जाएगा।

Suman  Mishra | Astrologer

Suman  Mishra | AstrologerBy Suman Mishra | Astrologer

Published on 9 July 2020 3:57 PM GMT

भारत से डर गया Zoom, बना ली चीन से दूरी, ये है वजह....
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : मोदी सरकार ने 59 चीनी ऐप्स बैन कर दिया है। ऐसे में अमेरिकी सोशल वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप जूम (Zoom) ने चीनी निवेश और चीन के लोगों की हायरिंग से दूरी बना ली है। और आगे वहां के लोगों की हायरिंग नहीं करने का एलान किया है। जूम ने साफ किया कि आने वाले दिनों में भारत में लोकल टैलेंट को मौका दिया जाएगा। जूम ने बताया कि भविष्य में चीन से आने वाले निवेश को शामिल नहीं किया जाएगा।

यह पढ़ें...ई-मोबिलिटी के लिए चार्जिंग स्टेशन की शुरुआत, मिलेगा इतना फायदा

जूम ऐप का इस्तेमाल

जूम ऐप के प्रेसिडेंट (इंजीनियरिंग एंड प्रोडक्ट) ने कहा कि जूम के लिए भारत एक बड़ा मार्केट है और आगे भी रहेगा। उनका मानना है कि जूम ऐप को लेकर काफी भ्रम पैदा किया जा रहा है। खासकर जूम ऐप के चीनी कनेक्शन को लेकर भारत में काफी भ्रम की स्थिति हैं और सोशल मीडिया पर जूम ऐप को बैन करने की मुहिम चल रही है।

बता दे कि देश में कोरोना वायरस की वजह से 'वर्क फ्रॉम होम' का कल्चर बढ़ गया है। इस दौरान हर तरह की मीटिंग के लिए जूम ऐप का खूब इस्तेमाल हो रहा है। सारी बड़ी कंपनियों में जूम के जरिये ही पिछले कुछ महीनों से कर्मचारियों के बीच मीटिंग हो रही हैं।

जूम के प्रेसीडेंट ने साफ किया

जूम के प्रेसीडेंट वेलचामी शंकरलिंगम ने लिखा- हम यह स्वीकार करते हैं कि जैसे-जैसे हम भारतीय बाजार में पकड़ बनाते रहे, जूम से संबंधित तथ्यों के बारे में कुछ भ्रम पैदा हुआ, हम इन्हें स्पष्ट करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि जूम एक अमेरिकी कंपनी है। जूम का कहना है कि चीन से उसका कोई रिश्ता नहीं है, यह अमेरिकी शेयर बाजार नैसडैक पर सार्वजनिक कारोबार करती है।

कंपनी का मुख्यालय भी अमेरिका के सैन जोस में स्थित है। यह फेमस ऐप अगले 5 सालों में भारत में एक महत्वपूर्ण निवेश करने और हायरिंग की योजना बना रही है। सोशल मीडिया वेबसाइट पर एक ब्लॉग में शंकरलिंगम ने कहा कि भारत जूम के लिए एक महत्वपूर्ण बाजार है।

यह पढ़ें...प्रदुषण फैलाया तो होगी कार्रवाई, कोई भी कर सकता है शिकायत, हेल्पलाइन नंबर जारी

जियो मीट से टक्कर

हालांकि अब भारत में जूम को जियो मीट ( JioMeet) से टक्कर मिल रही है। जियो मीट को मुकेश अंबानी ने लॉन्च किया है। अमेरिकी ऐप जूम 40 मिनट तक फ्री वीडियो कॉलिंग सुविधा प्रदान करती है, जबकि जियोमीट अनलिमिटेड मुफ्त वीडियो कॉलिंग की सुविधा देती है,

जिस वजह से हफ्ते भर अंदर जियोमीट के ऐप को करीब 10 लाख से ज्यादा डाउनलोड किया जा चुका है। लॉकडाउन के बाद भारत में जूम के यूजर्स की संख्या तेजी से बढ़ी है। जूम भारतीय व्यवसायों, सरकारी एजेंसियों, समुदायों, स्कूल शिक्षकों और अन्य उपयोक्ताओं को जुड़े रहने में मदद कर रही है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Suman  Mishra | Astrologer

Suman Mishra | Astrologer

Next Story