Top

महिलाएं ऐसे भगा रही कोरोना को, सड़कों पर निकाला जुलूस, फिर सभी को पड़ा भारी

एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है गुजरात के अहमदाबाद जिले से। यहां एक गांव के कुछ लोग कोरोना के इस दौर में धार्मिक जुलूस निकाल रहे थे।

Network

NetworkNewstrack Network NetworkVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 6 May 2021 4:37 AM GMT

23 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। कोरोना भगाने के लिए।
X
कोरोना भगाने पर अंधविश्वास(फोटो-सोशल मीडिया)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अहमदाबाद: पूरे देश में कोरोना वायरस से मची तबाही से लोग खौफ में है। ऐसे में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है गुजरात के अहमदाबाद जिले से। यहां एक गांव के कुछ लोग कोरोना के इस दौर में धार्मिक जुलूस निकाल रहे थे। वो भी धार्मिक जुलूस कोरोना को भगाने के लिए।

ऐसे में गांव के मुखिया सहित 23 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इस बारे में पुलिस ने बताया कि यह गिरफ्तारी एक धार्मिक जुलूस आयोजित करने के मामले में हुई है। जुलूस में कोरोना वायरस 'उन्मूलन' के लिए बड़ी संख्या में महिलाएं एकत्रित हुई थीं।

ऐसे भगा रहे कोरोना

मामले के बारे में बता दें कि इस घटना का एक वीडियो वायरल हुआ था। यहां सानंद तालुका के नवापुरा गांव के इस वीडियो में लगभग 500 महिलाओं को एक मंदिर के चक्कर लगाते देखा जा रहा है। इन सबने हाथों में पानी का पात्र पकड़ा हुआ है। साथ ही इस वीडियो में कुछ पुरुष पानी का पात्र स्वयं लेते और उसे मंदिर में खाली करते दिख रहे हैं।

इस बारे में पुलिस अधिकारी ने बताया कि ग्रामीणों ने इस धारणा के चलते आयोजन किया कि बलियादेव मंदिर में जल चढ़ाने से कोरोना वायरस खत्म हो जाएगा।

कोरोना को भगाने के चक्कर में महामारी के इस दौर में गांव वालों द्वारा जुलूस निकालना बहुत ही बड़ी गलती साबित हो सकती थी। जिससे कई लोगों के ऊपर खतरा मंडरा सकता था।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story