×

Gujarat Election 2022: निस्तेज कांग्रेस के चलते आप ने जमाईं गुजरात में जड़ें

Gujarat Election 2022: गुजरात से मतगणना के स्पष्ट रुझान सामने आने के बाद केजरीवाल ने एक वीडियो संदेश जारी किया, जिसमें कहा गया था कि आप इस बार भाजपा के किले गुजरात को तोड़ने में कामयाब रही है।

Neel Mani Lal
Written By Neel Mani Lal
Published on: 8 Dec 2022 3:18 PM GMT
delhi cm arvind kejriwal
X

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल (Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Gujarat Election 2022: दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में आप ने पिछले अप्रैल में अपना गुजरात अभियान शुरू किया और बाद के महीनों में एक जबर्दस्त उत्साही अभियान चलाया। गुजरात से मतगणना के स्पष्ट रुझान सामने आने के बाद केजरीवाल ने एक वीडियो संदेश जारी किया, जिसमें कहा गया था कि आप इस बार भाजपा के किले गुजरात को तोड़ने में कामयाब रही है, यह अगली बार इसे जीत लेगी। गुजरात में आप के लिए कई सबक निकले हैं।

आम आदमी पार्टी एक राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा हासिल

गुजरात में आम आदमी पार्टी की मौजूदगी के कई मायने निकलते हैं। सबसे पहली बात तो ये कि अब आम आदमी पार्टी एक राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा हासिल कर चुकी है। भाजपा, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, सीपीआई, सीपीआई (एम), बहुजन समाज पार्टी और नेशनल पीपुल्स के साथ अब आप देश की नौवीं राष्ट्रीय पार्टी बनने के लिए तैयार है।

दिल्ली और पंजाब में आप की सरकारें हैं। दो विधायकों के साथ गोवा में उसकी कुछ उपस्थिति है। आप को राष्ट्रीय बनने के लिए गुजरात में दो सीटों और 6 फीसदी से थोड़ा अधिक वोट शेयर की आवश्यकता थी। पार्टी को पांच सीटें और लगभग 12.9 फीसदी वोट मिले हैं।

आप को 2017 में मिले थे 29,000 वोट

पूर्ण संख्या में देखें तो आप को 2017 में लगभग 29,000 वोट मिले थे। उसने 29 सीटों पर चुनाव लड़ा था। इस बार उसने सभी 182 सेटों पर चुनाव लड़ते हुए 40.8 लाख से अधिक वोट हासिल किए। मुख्य रूप से सौराष्ट्र क्षेत्र की 35 सीटों पर पार्टी दूसरे स्थान पर रही।

हर तरह से, आप के चुनावी अभियान में बहुत शोर मचाना शामिल था, जिसने कम से कम शुरुआती महीनों में, जमीन पर कोई वास्तविक उपस्थिति नहीं होने के बावजूद जनता के बीच अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में मदद की। इसने ऐसा केजरीवाल के बार-बार दौरे, अपने 'गारंटी कार्ड' और पंजाब के नेताओं के एक बड़े दल को गुजरात में तैनात करके किया।

2017 में अपने निराशाजनक प्रदर्शन के बावजूद पार्टी राज्य से पूरी तरह से नहीं हटी। इसके गुजरात प्रभारी गुलाब सिंह, जो दिल्ली में एक विधायक हैं, महीनों तक गुजरात में डेरा डाले रहे। अभियान के आखिरी चरण तक आप राज्य भर में चर्चा का विषय बनकर उभरी थी। लेकिन भाजपा की जीत की प्रचंडता के चलते पार्टी के लिए अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के अलावा बहुत कम उपलब्धि रही है।

आप ने गुजरात में एक नई शुरुआत की शुरुआत

2021 के सूरत नगरपालिका चुनावों में आप के प्रदर्शन ने गुजरात में इसके लिए एक नई शुरुआत की शुरुआत की थी। निगम की 120 में से 27 सीटों पर जीत हासिल करने के बाद, यह कांग्रेस को हाशिए पर धकेलते हुए मुख्य विपक्ष के रूप में उभरी थी। सूरत वह जगह है जहां आप ने पाटीदार आरक्षण आंदोलन का नेतृत्व करने का अनुभव रखने वाले अपने भारी भरकम उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था। इन चेहरों में पार्टी के गुजरात अध्यक्ष गोपाल इटालिया, महासचिव मनोज सोरठिया, पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पीएएएस) के संयोजक अल्पेश कथीरिया और खोडलधाम ट्रस्ट की सूरत इकाई के प्रमुख धर्मिक मालवीय शामिल हैं। उनमें से कोई भी नहीं जीता। बल्कि सभी बड़े अंतर से भाजपा उम्मीदवारों से पीछे रहे।

प का प्रचार अभियान उसके "दिल्ली मॉडल" पर टिका

आप का प्रचार अभियान उसके "दिल्ली मॉडल" पर टिका था। यह स्पष्ट था कि कई लोगों के लिए आप विपक्ष में एक तेजतर्रार खिलाड़ी के रूप में फिट बैठती है। कांग्रेस तो पिछले पांच वर्षों में अपने कुनबे को एक साथ रखने के लिए ही संघर्ष करती रही। इस बार तो कांग्रेस ने आप के पाले में अपने पारंपरिक समर्थन का एक बड़ा हिस्सा खो दिया। हालांकि "मुस्लिम मुद्दों" पर चुप्पी ने पार्टी को भाजपा के वफादार आधार में कोई सेंध लगाने में मदद नहीं की। बहरहाल, अब तय है कि इन चुनावों के बाद आप को लंबे समय में राज्य में एक मजबूत ध्रुव के रूप में उभरने के लिए पर्याप्त जमीन मिल चुकी है।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story