Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

खट्टर सरकार का फैसलाः डॉक्टरों-मेडिकल स्टाफ का रेस्ट हाउस में रहना-खाना मुफ्त

एक ओर देश में कोरोना ने हाहाकार मचा दिया है तो वहीं दूसरी ओर डॉक्टर्स मरीजों की इलाज में दिन रात लगे हुए हैं।

Newstrack

NewstrackNewstrack Network NewstrackShwetaPublished By Shweta

Published on 5 May 2021 2:59 AM GMT

दुष्यंत चौटाला
X

 दुष्यंत चौटाला (फोटो सौजन्य से सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

चंडीगढ़ः एक ओर देश में कोरोना ने हाहाकार मचा दिया है तो वही दूसरी ओर डॉक्टर्स मरीजों की इलाज में दिन रात लगे हुए हैं। इस देखते हुए हरियाणा सरकार ने अहम फैसला लिया है। सरकार ने प्रदेशभर में लोक निर्माण विभाग के सभी विश्राम गृहों में डॉक्टरों, पैरामेडिकल व आवश्यक सेवाओं से जुड़े स्टाफ का रहना और खान दोनों फ्री कर दिया है।

इस दौरान उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) ने विभाग के संबंधित अधिकारियों को आदेश जारी किए जहां उन्होंने कहा कि सरकार ने यह कदम महामारी में अपना कर्तव्य निभा रहे डॉक्टरों व मेडिकल स्टाफ को देखते हुए लिया है। उन्होंने आगे कहा कि इस समय देश कोरोना महासंकट से जूझ रहा है। जहां लोग डर कर अपने घरों में सुरक्षित बैठे है तो वही दूसरी ओर देश के डॉक्टर्स मरीजों की जान बचाने में लगे हुआ हैं।

गौरतलब है कि देश इस समय कोरोना के विकराल रूप से जूझ रहा है। चारों तरफ कोरोना से लोगों की मौत हो रही है। इसे देखते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इस कदम से संक्रमण फैलने का भय कम होगा और इसके साथ ही उन्हे रहने के लिए उचित सुविधा भी दिया जाएगा। इतना ही नहीं सरकार डॉक्टरों, पैरामेडिकल व आवश्यक सेवाओं संबंधित स्टाफ के लिए विश्राम गृहों में मुफ्त में भोजन उपलब्ध करवाने की व्यवस्था करेगी ताकि उन्हें किसी तरह की कोई दिक्कत न हो।

अधिकारियों को निर्देश

आपको बताते चले कि दुष्यंत चौटाला ने कहा कि यह सब पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस जिला उपायुक्त और सीएमओ की नजर में रहेगा। और इसके बारे में सरकार संबंधित अधिकारियों को निर्देश भी जारी कर दिए हैं। यह निर्देश पीडब्ल्यूडी विभाग के सभी सुपरिटेंडेंट इंजीनियर, एक्जीक्यूटिव इंजीनियर को दिए गए है। कि वे नोडल अधिकारी, जिला उपायुक्त से सम्पर्क करें और प्रदेश के डॉक्टरों, पैरामेडिकल व आवश्यक सेवाओं से संबंधित स्टाफ के लिए विभाग विश्राम गृहों में रहने व खाने की व्यवस्था बनाएं। ताकि डॉक्टरों को किसी भी चीज की कमी न हो।

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shweta

Shweta

Next Story