Top

किसान नेता की कोरोना मरीजों को सलाह,...तो MP और MLA के घरों में डालें डेरा

देश में इन दिनों कोरोना की दूसरी लहर ने रफ्तार पकड़ लिया है।वहीं दूसरी ओर किसान कई महीनों से कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं।

Newstrack

NewstrackNewstrack Network NewstrackShwetaPublished By Shweta

Published on 29 April 2021 9:01 AM GMT

गुरनाम सिंह चढूनी
X

गुरनाम सिंह चढूनी (फाइल फोटो - सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सोनीपतः देश में इन दिनों कोरोना की दूसरी लहर ने रफ्तार पकड़ लिया है। वहीं पिछले कई महीनों से देश में कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसान आंदोलन कर रहे हैं। इस दरमियान किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने एक ट्वीट किया है।

बता दें कि गुरनाम सिंह ने ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने कोरोना संक्रमित मरीजों और उनके परिवार वालों को सलाह दी है। उन्होंने लिखा है कि जो लोग कोरोना से संक्रमित है अगर उन्हों बेड या ऑक्सीजन नहीं मिल रहा है तो वह लोग एमएलए और एमपी के घर जाकर डेरा डाल लें।

गौरतलब है कि बीते दिन भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम ने कहा था कि प्रदर्शन कर रहे किसानों को अपनी जांच करवाने या टीका लगवाने के लिए मजबूर नहीं किया जाए। अगर उनके साथ स्वास्थ्यकर्मी जोर-जबरदस्ती करने की कोशिश करेंगे तो उन्हें प्रदर्शन स्थल पर प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा।

क्या कहा था अनिल विज ने

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही हरियाण के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा था कि हरियाणा-दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों की कोविड-19 की जांच करायी जाएगी और उनका टीकाकरण कराया जाएगा। इतना ही नहीं दिल्ली के साथ हरियाणा के सोनीपत, गुरुग्राम के साथ फरीदाबाद और उसके आसपास की सीमाओं पर किसानों का टीकाकरण किया जाएगा। इसपर गुरनाम सिंह ने कहा कि अगर वे हम पर किसी प्रकार का दबाव बनाने की कोशिश करते हैं तो हम उन्हें प्रदर्शन स्थल में प्रवेश नहीं करने देंगे।

गुरनाम ने कहा कि जांच कराने और टीक लगवाने का विकल्प किसानों के हाथ में है। जहां एक तरफ किसान केन्द्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ बड़ी संख्या में कई महीनों से दिल्ली से लगे हरियाणा के सिंघु और टीकरी बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं। फिलहाल जब तक सरकार कृषि कानून वापस नहीं लेता तब तक यह आंदोलन चलता रहेगा।

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shweta

Shweta

Next Story