Top

सावधान मरीज- PGI के 22 डॉक्टर कोरोना संक्रमित, लेबर रूम बना हॉट स्पॉट

पीजीआईएमएस की चिकित्सा अधीक्षक डॉ. पुष्पा ने बताया, "जांच में सामने आया कि लेबर रूम ही कोरोना का हॉट स्पॉट बना हुआ है।"

Chitra Singh

Chitra SinghBy Chitra Singh

Published on 1 April 2021 9:23 AM GMT

सावधान मरीज- PGI के 22 डॉक्टर कोरोना संक्रमित, लेबर रूम बना हॉट स्पॉट
X

सावधान मरीज- PGI के 22 डॉक्टर कोरोना संक्रमित, लेबर रूम बना हॉट स्पॉट (photo- social media)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रोहतक: हरियाणा से एक बड़ी खबर सामने आई है। बता दें कि ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (PGIMS) के कई डॉक्टर्स कोरोना संक्रमित पाए गए है। बताया जा रहा है कि यहां 19 पीजी डॉक्टर, दो सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर व एक सीनियर डॉक्टर की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

पीजीआईएमएस में कोरोना विस्फोट

बता दें कि पीजीआईएमएस (PGIMS) के महिला डिमार्टमेंट में कोरोना विस्फोट हुआ है। जानकारी के मुताबिक, लगभग 22 डॉक्टर्स कोरोना पॉजिटिव पाए गए है। खबर है कि इसमें से कई ऐसे डॉक्टर्स हैं, जिन्होंने कोरोना वैक्सीन लगवाया था। इस बारे में डॉ. पुष्पा दहिया ने जानकारी देते हुए कहा, "प्रसूति एवं स्त्री रोग विभाग के 22 निवासी डॉक्टरों ने पिछले 14 दिनों में COVID-19 के लिए सकारात्मक परीक्षण किया है। इन 22 डॉक्टरों में से 14 ने टीका लिया था।"

PGIMS Rohtak (PHOTO- SOCIAL MEDIA)

निदेशक ने जारी किया पत्र

पीजीआईएमएस की चिकित्सा अधीक्षक डॉ. पुष्पा ने बताया, "जांच में सामने आया कि लेबर रूम ही कोरोना का हॉट स्पॉट बना हुआ है। विभाग के डॉक्टरों को आदेश दिया गया है कि इलेक्टिव सर्जरी की संख्या में कमी लाएं।" वहीं निदेशक डॉ. रोहतास कंवर यादव ने एक पत्र जारी किया है। इस पत्र के जरिए निदेशक ने डॉक्टरों से पूछा है, " पूछा है कि किस डॉक्टर ने अभी तक टीकाकरण नहीं कराया है और उसकी वजह क्या है।" बताते चलें कि कोरोना का मामला सामने आने के बाद रैपिड टेस्ट पर पाबंदी लगा दी गई है।

Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story