×

Himachal Pradesh Election 2022: हिमाचल में सिर्फ 37 हजार वोट से कांग्रेस ने जीत ली बाज़ी

Himachal Pradesh Election 2022: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी से महज 37,974 वोट पाकर उसे सत्ता से बेदखल कर दिया।

Neel Mani Lal
Written By Neel Mani Lal
Updated on: 9 Dec 2022 10:29 AM GMT
Congress
X
Congress। (Social Media)
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Himachal Pradesh Election 2022: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस (Congress) ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) से महज 37,974 वोट ज्यादा पाकर उसे सत्ता से बेदखल कर दिया। कांग्रेस को 43.9 फीसदी वोट शेयर (18,52,504 वोट) के साथ 40 सीटें मिलीं, जबकि भाजपा 43 फीसदी वोट शेयर (18,14,530 वोट) के साथ 25 सीटें जीतने में कामयाब रही। वोट शेयर का अंतर दोनों के बीच केवल 0.9 प्रतिशत अंक था, जो 1951 के बाद सबसे कम है।

2022 के परिणामों के विश्लेषण

2017 के विधानसभा चुनावों में भाजपा ने 48.79 प्रतिशत के वोट शेयर के साथ 44 सीटें जीती थीं, जबकि कांग्रेस को 21 सीटें मिली थीं और दोनों दलों के वोट शेयर में अंतर 7.11 प्रतिशत का था। 2022 के परिणामों के विश्लेषण से यह भी पता चलता है कि 40 विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस का जीत का औसत अंतर (5,784 वोट) 25 सीटों पर भाजपा के जीत के अंतर (7,427 वोट) से कम था। सभी 68 सीटों पर जीत का औसत अंतर 6,575 वोट दर्ज किया गया।

जयराम ठाकुर ने कांग्रेस के चेत राम को 38,183 मतों के अंतर से हराया

राज्य भर में सबसे अधिक जीत का अंतर सिराज निर्वाचन क्षेत्र में दर्ज किया गया, जहां मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कांग्रेस के चेत राम को 38,183 मतों के अंतर से हराया। सबसे कम अंतर भोरंज में दर्ज किया गया, जहां कांग्रेस उम्मीदवार सुरेश कुमार ने भाजपा के डॉ अनिल धीमान को सिर्फ 60 मतों से हराया।

8 सीटों का फैसला 1,000 वोटों से कम के अंतर

कुल मिलाकर, आठ सीटों का फैसला 1,000 वोटों से कम के अंतर से हुआ और इनमें से पांच सीटों- भोरंज (60), शिलाई (382), सुजानपुर (399), रामपुर (567) और श्री रेणुकाजी (860) पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की। जबकि भाजपा ने कम अंतर से तीन सीटें जीतीं - श्री नैना देवीजी (171), बिलासपुर (276) और दरंग (618)। 68 सीटों में से सात सीटों का फैसला 1,000-2,000 मतों के अंतर से हुआ। इन सीटों में से कांग्रेस ने तीन (भटियात, लाहौल-स्पीति और नाहन) जीतीं, जबकि भाजपा ने चार (बल्ह, ऊना, जसवां-परागपुर और सरकाघाट) जीतीं। केवल 13 सीटों का फैसला 10,000 से अधिक मतों के अंतर से हुआ था।

2022 के चुनावों में विजेता और उपविजेता दलों के वोट शेयर

2022 के चुनावों में विजेता और उपविजेता दलों के वोट शेयर में अंतर 1951 के बाद से सबसे निचले स्तर (0.9 प्रतिशत) पर दर्ज किया गया था। राज्य में अब तक 1951 से 2022 तक 14 विधानसभा चुनाव हुए हैं और इस दौरान 1972 के विधानसभा चुनावों में विजेता और उपविजेता दलों के बीच अधिकतम अंतर 45.49 प्रतिशत दर्ज किया गया था। 1972 के विधानसभा चुनावों में, कांग्रेस ने 53.24 प्रतिशत का वोट शेयर हासिल किया, जबकि उसके प्रतिद्वंद्वी भारतीय जनसंघ को केवल 7.75 प्रतिशत वोट मिले। शेष 39 फीसदी वोट अन्य दलों और निर्दलीय उम्मीदवारों को मिले। हिमाचल प्रदेश में एक राजनीतिक दल द्वारा प्राप्त उच्चतम वोट शेयर 1985 में था जब कांग्रेस को 55.46 प्रतिशत वोट मिले थे।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story