×

Himachal Pradesh: पत्नी की खातिर दान कर दी 5 करोड़ की संपत्ति, सुने इस भारतीय की दिल छूने वाली कहानी

Himachal Pradesh: दरअसल दंपति के कोई भी संतान ना होने के चलते कृष्णा कंवर ने अपने पति राजेन्द्र कंवर से इच्छा जाहिर करते हुए कहा था कि वह अपनी समस्त चल-अचल संपत्ति को सरकार के नाम कर दें।

Rajat Verma

Report Rajat VermaPublished By Divyanshu Rao

Published on 15 Jan 2022 12:06 PM GMT

himachal pradesh
X

संपति दान करने वाले शक्स की तस्वीर 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Himachal Pradesh News: हमने पति-पत्नी से संबंधित कई ऐसी कहानियां सुन रखी हैं, जो कि खुद में एक मिशाल बन गई। ऐसी ही एक कहानी हिमाचल प्रदेश से आ रही है। हिमाचल प्रदेश स्थित नादौन के रहने 72 वर्षीय डॉक्टर राजेन्द्र कंवर ने अपनी पत्नी कृष्णा कंवर की एक इच्छा पूरी करने के लिए अपनी ₹5 करोड़ की संपत्ति दान कर दी।

दरअसल दंपति के कोई भी संतान ना होने के चलते कृष्णा कंवर ने अपने पति राजेन्द्र कंवर से इच्छा जाहिर करते हुए कहा था कि वह अपनी समस्त चल-अचल संपत्ति को सरकार के नाम कर दें। इसी के अनुरूप राजेन्द्र कंवर ने अपनी पत्नी की इच्छा का मान रखते हुए और अपनी पत्नी के प्रति प्रेम को ज़ाहिर करते हुए उसकी इच्छा को पूरा करने की ठान ली।

संपत्ति दान करने का इरादा करते हुए राजेन्द्र कंवर ने अपने रिश्तेदारों से विचार-विमर्श करने के पश्चात अपनी ₹5 करोड़ की संपत्ति को सरकार के नाम करने के फैसले पर मुहर लगा दी।

अपने घर और अन्य संपत्ति को दान करते हुए डॉक्टर राजेन्द्र कंवर ने कहा कि उनकी सरकार उनके घर और ज़मीन का इस्तेमाल गरीब और मज़लूमों को पनाह देने के साथ ही, अपने घर से निष्काषित किए जा चुके बुजुर्गों के रहने के लिए उपयोग कर सकती है।

अपनी पत्नी की एक इच्छा को पूरी करने के लिए डॉक्टर राजेन्द्र कंवर द्वारा अपनी सम्पूर्ण चल-अचल संपति दान करने के लिए बनी वशीयत लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है। इस विषय में सुनने वाले सभी लोग डॉक्टर राजेन्द्र कंवर और उनकी पत्नी कृष्णा कंवर के प्यार की मिशाल दे रहे हैं।

अपनी कोई भी संतान ना होने के चलते दंपति द्वारा पूरी संपत्ति सरकार को दान करने का यह निर्णय लोगों एक नई प्रथा की शुरुआत के रूप में देखा जा रहा है, जिसमें लोग अपनी मोह माया को छोड़कर सामाजिक हित की ओर कदम बढ़ा रहे हैं।

Divyanshu Rao

Divyanshu Rao

Next Story