Top

योगी इफेक्ट्स : नोएडा में 100 दुकानों को तोड़े आम्रपाली वर्ना....

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 14 April 2017 10:35 AM GMT

योगी इफेक्ट्स : नोएडा में 100 दुकानों को तोड़े आम्रपाली वर्ना....
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा : सत्ता में योगी सरकार के आते ही नोएडा विकास प्राधिकरण ने बिल्डर्स पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया हैं। प्राधिकरण के नियोजन विभाग ने अनिल शर्मा के स्वामित्व वाले आम्रपाली ग्रुप को सेक्टर-120 स्थित जीएच-03 प्लाट पर अवैध कंस्ट्रक्शन को तोड़ने के लिए नोटिस जारी किया है। जांच में सामने आया था कि यहाँ के निर्माण में नियमावली का उल्लघंन किया गया है।

प्राधिकरण ने नोटिस जारी करते हुए आम्रपाली ग्रुप को अवैध निर्माण स्वयं तोड़ने और नियोजन विभाग को रिपोर्ट देने के लिए सात दिन का समय दिया है। ऐसा नहीं करने पर प्राधिकरण स्वयं अवैध निर्माण तोड़ेगा और शमन शुल्क भी वसूलेगा।

ये भी देखें : OMG : GBU-43B है बमों की ‘मम्मी जी’, 32 किमी दूर से नजर आती है तबाही

दरसअल, आम्रपाली जोडियक के निवेशकों ने प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ बैठक में कहा कि टावरों में नक्शें के विपरीत 100 दुकानें अवैध तरीके से बना ली हैं। जिससे निवेशकों को परेशानी हो रही है। इसको लेकर नियोजन विभाग की टीम ने बुधवार को साइट का दौरा किया, वहां उसे अवैध तरीके से बनाईं गई दुकाने नजर आई। निर्माण कार्य में भवन नियमावली का भी उल्लघंन पाया गया। जिसके एवज में आम्रपाली को नोटिस जारी किया गया है।

प्राधिकरण एसीईओ शिशिर सिह ने आम्रपाली को निर्देश देते हुए कहा कि वह सभी टावरों का कंपलीशन शिड्यूल प्राधिकरण में जमा करे। पानी के कनेक्शन और बिजली के मुद्दे 20 दिन में आवेदन देकर निपटाए जाए। प्राधिकरण ने बताया कि 31 मार्च तक आम्रपाली की कुल देनदारी 201 करोड़ हो चुकी है।

वहीं बिल्डर ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि अभी उसे अपना प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए करीब 45 करोड़ की जरूरत है। जबकि निवेशकों का आरोप है कि 770 करोड़ की परियोजना में करीब 640 करोड़ रुपए निवेशकों द्बारा दिए जा चुके है। इसके बाद भी समय पर पजेशन नहीं मिल सका है। आम्रपाली के सेक्टर-76 स्थित 176758 वर्गमीटर पर बने प्रोजेक्ट सिलिकॉन टावरों की पूरी जानकारी कंपलीशन शिड्यूल के हिसाब से 24 अप्रैल तक प्राधिकरण में जमा करने के निर्देश दिए है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story