Top

पहले बाबा को लाठी-डंडों से पीटा, फिर काट दी चार फुट लंबी शिखा

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 29 May 2017 9:36 AM GMT

पहले बाबा को लाठी-डंडों से पीटा, फिर काट दी चार फुट लंबी शिखा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गुना : मध्य प्रदेश के गुना जिले में एक आश्रम में रहने वाले बाबा से कुछ लोगों ने मारपीट की और उनकी चार फुट लंबी चोटी काट दी। बाबा का आरोप है कि उनके 16 हजार रुपये भी आरोपियों ने लूट लिए। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

ये भी देखें : अशांत घाटी के लिए मोदी सरकार और सेना का सख्त संदेश, अब जड़ पर हमला

आरोन थाने के प्रभारी अभय प्रताप सिंह ने सोमवार को बताया कि उनके थाने से लगभग 20 किलोमीटर दूर जंगल में गुप्तेश्वर महादेव का आश्रम है। इस आश्रम में बाबा विष्णु स्वामी रघुनंदन दास रहते हैं। शनिवार-रविवार की रात में कुछ लोग उनके आश्रम में आए और उनकी लाठी-डंडों से पिटाई की। बाबा का आरोप है कि वह लोग उनके 16 हजार रुपये भी लूट ले गए। बाबा को घायल अवस्था में रविवार को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया।

सिंह के मुताबिक, बाबा ने अस्पताल में उपचार के दौरान बताया कि उनकी लगभग चार फुट लंबी चोटी भी आरोपियों ने काट दी। पुलिस ने आश्रम से बाबा की कटी हुई चोटी भी बरामद कर ली है। बाबा ने आरोपियों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट लिखाई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story