बलोच नेता ने कहा- ईरान के चाबहार से किया गया था जाधव का अपहरण

Published by aman Published: January 19, 2018 | 1:59 pm
Modified: January 19, 2018 | 4:47 pm
बलोच नेता ने कहा- ईरान के चाबहार से किया गया था जाधव का अपहरण

नई दिल्ली: पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के बारे में एक नया खुलासा हुआ है। बलोच नेता कदीर बलोच ने दावा किया है कि ईरान के चाबहार से जाधव का अपहरण किया गया था। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के इशारे पर यह काम किया गया।

कदीर ने एक इंटरव्यू में दावा किया कि आईएसआई के लिए काम करने वाले मौलवी मुल्ला उमर बलोची ईरानी ने जाधव को अगवा किया था। कदीर ने कहा, कि ‘जाधव कभी बलूचिस्तान में घुसा ही नहीं। मुल्ला ने बाद में आईएसआई से करीब पांच करोड़ लेकर जाधव को पाकिस्तान को सौंप दिया।’

ये भी पढ़ें …जारी वीडियो में कुलभूषण जाधव बोले- पाकिस्तान में मुझे यातना नहीं दी गई

मुल्ला उमर ने किया था जाधव को अगवा
कदीर ने एक न्यूज चैनल से बातचीत में यह सनसनीखेज खुलासा किया। कदीर ने कहा, कि ‘वायस फॉर मिसिंग बलूच्स नामक संगठन से उन्हें यह जानकारी मिली है।’ कदीर इस संगठन के उपाध्यक्ष हैं। उन्होंने कहा, कि ‘मुल्ला उमर ईरानी बलूचिस्तान में कुख्यात आईएसआई एजेंट के रूप में मशहूर है। उसे पाकिस्तानी सरकार के खिलाफ वहां आवाज उठाने वालों को अगवा करने के लिए जाना जाता है।’

ये भी पढ़ें …PAK- जाधव की पत्नी के जूते में थे जासूसी उपकरण, स्वामी- तो कर लो युद्ध

जाधव कभी बलूचिस्तान आए ही नहीं
कदीर ने जाधव के अपहरण की पूरी कहानी बताते हुए कहा, कि कुलभूषण के हाथ बंधे हुए थे और आंखों पर पट्टी थी। कुलभूषण को धक्का देकर एक गाड़ी में बिठाया गया। चाबहार से कुलभूषण को ईरान-बलूचिस्तान की सीमा पर स्थित शहर मशकील लाया गया। यहां से उन्हें बलूचिस्तान की राजधानी क्वेटा लाया गया और फिर इस्लामाबाद पहुंचाया गया। इसके बाद ही आईएसआई की ओर से जाधव को बलूचिस्तान से पकड़े जाने का फर्जी दावा कर दिया गया। सच्चाई यह है कि जाधव बलूचिस्तान आए ही नहीं थे, बल्कि मुल्ला उमर ने ईरान से उनका अपहरण किया था।’

ये भी पढ़ें …जाधव की मां और पत्नी ने सुषमा से बताई आपबीती, भड़का भारत

आईएसआई रखती है बलूचिस्तान पर नजर
आईएसआई को बलूचिस्तान में हर आने-जाने वाले की जानकारी होती है। यह संभव ही नहीं है कि बिना आईएसआई की जानकारी के कोई विदेशी बलूचिस्तान में घुस जाए। जाधव को जासूसी के कथित आरोप में पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने फांसी की सजा सुना रखी है। इस फैसले के खिलाफ भारत ने अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में याचिका दायर की, जिसने फांसी की सजा पर रोक लगा दी। पाकिस्तान ने पिछले 25 दिसंबर को कुलभूषण की मुलाकात उनकी मां और पत्नी से कराई थी। इस मुलाकात के दौरान कुलभूषण और उनके परिवार के बीच शीशे की दीवार खड़ी की गई थी। जाधव ने इंटरकॉम के जरिए अपने परिवार से बात की। जाधव की पत्नी की जूतियां उतारने को लेकर काफी विवाद भी हुआ था।