Top

भोपाल एम्स में छात्राओं से छेड़छाड़ पर आयोग में रिपोर्ट तलब

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 29 Jan 2018 11:22 AM GMT

भोपाल एम्स में छात्राओं से छेड़छाड़ पर आयोग में रिपोर्ट तलब
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

भोपाल : मध्य प्रदेश की राजधानी स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के छात्रावास की छात्राओं से छेड़छाड़ करने और धमकाने के मामले को राज्य मानव अधिकार आयोग ने पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) से रिपोर्ट तलब की है।

आयोग के जनसंपर्क अधिकारी व अपर संचालक एस.आर. सिसौदिया ने विज्ञप्ति जारी कर बताया है कि कुछ युवकों द्वारा एम्स के छात्रावास में घुसकर छात्रा के साथ छेड़छाड़ व उन्हें कई तरह से परेशान किए जाने और फिर आने की धमकी दिए जाने की घटना का आयोग ने संज्ञान लिया है। आयोग ने इस मामले में भोपाल के पुलिस उप महानिरीक्षक से रिपोर्ट मांगी है।

ये भी देखें : IIT छात्रा ने एयरफोर्स कर्मी पर लगाया रेप का आरोप, FB से हुई थी दोनों की फ्रेंडशिप

आयोग ने भोपाल के आईएसबीटी बस स्टैंड स्थित रजिस्ट्रार कार्यालय में दो फर्जी गवाहों के सक्रिय होने के मामले को भी संज्ञान में लिया है। आयोग ने इस संबंध में भोपाल जिला पंजीयक से रिपोर्ट मांगी है और पूछा है कि इन फर्जी गवाहों ने कितनी रजिस्ट्री में बतौर गवाह हस्ताक्षर किए हैं। ऐसे अन्य कितने गवाह हैं, जिन्होंने गवाही के रूप में रजिस्ट्री पर पांच या उससे ज्यादा बार हस्ताक्षर किए हैं। शिकायत अगर सही है, तो इसे रोकने के क्या उपाय किए गए हैं।

सिवनी जिले के ग्राम रामाटोला निवासी नेशनल कुश्ती खिलाड़ी पुष्पा विश्वकर्मा की कंधे की सर्जरी के लिए शासन को भेजे गए पचास हजार रुपये की आर्थिक सहायता के प्रस्ताव को संबंधित विभाग द्वारा निरस्त कर दिए जाने को भी आयोग ने संज्ञान में लिया है। आयोग ने इस सिलसिले में राज्य के खेल एवं युवा कल्याण निदेशक (संचालक) से रिपोर्ट तलब की है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story