Top

कारोबारी के बेटे की अपहरण के बाद हत्या, नोटबंदी के कारण नहीं दे सका फिरौती

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 22 Dec 2016 10:10 PM GMT

कारोबारी के बेटे की अपहरण के बाद हत्या, नोटबंदी के कारण नहीं दे सका फिरौती
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

उधम सिंह नगर : रूद्रपुर के कैटरिंग कारोबारी के बेटे को बीते रोज अगवा कर लिया गया। चालीस लाख फिरौती नहीं मिलने पर अपहरणकर्ताओं ने मासूम की हत्या कर नहर में फेंक दिया। पुलिस ने चारों आरोपियों सहित मासूम के शव को बरामद कर लिया है। डीमाॅनिटाइजेशन की वजह से फिरौती की रकम का बंदोबस्त नहीं होने पर उनके मासूम को मौत के घाट उतार दिया गया।

उत्तराखंड के जिला उधमसिंह नगर के रुद्रपुर निवासी सुनील पाल कैटरिंग का कारोबार करते है। उनका 5 वर्षीय बेटा अंकित पाल एक दिन पहले कहीं लापता हो गया। काफी खोजबीन के बाद भी जब उसका कही अता पता नहीं चला तो परिजनों को मासूम की फिक्र हुई। इस बीच सुनील पाल को एक रेनसम काॅल आती है कि अंकित का अपहरण कर लिया गया है और चालीस लाख रूपये की रैनसम मनी चाहिए अन्यथा मासूम को मार दिया जायेगा।

इस बीच अपहरणकर्ताओं ने मासूम की आवाज परिजनों को सुनवाई। मौत के मुंह में अंकित ने फोन पर अपनी आवाज सुनाने के दौरान कह दिया कि वह टिंकू अंकल के साथ है। जिससे रेनसम मांगने वाले अपहरणकर्ताओं का राज खुल गया। फिरौती की रकम मांगने वाले दो अपहरणकर्ता अंकित के पिता के कैटरिंग बिजनेस में खाना बनाने का काम करते हैं।

दोनों अपहरणकर्ताओं ने अपने दो अन्य साथियों की मदद से माूसम को अगवा किया था। अपहरण की खबर सुनकर डरे सहमे घबराये पीड़ित के पिता अपनी लाचारी के तहत रूपयों के इंतेजाम में जुट गया लेकिन नोटबंदी के चलते वह रूपयों का इंतेजाम तय वक्त पर नहीं कर सके।

इस बीच फिरौती की रकम न मिलने पर और उनका राजफाश होने के चलते चारों अपहरणकर्ताओं ने उसका गला दबा दिया। साथ ही पुलिस को उलझाने के लिए यूपी के रामपुर की तहसील बिलासपुर की नहर में मासूम के शव को फेंक दिया।

मासूम का शव मिलने से आसपास के इलाके में सनसनी फैल गई । घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने इस वारदात के सिलसिले में रुद्रपुर पुलिस से संपर्क साधा। जिसके बाद हत्या की वजह आईने की तरह साफ हो गयी। मामले की गंभीरता को देखते हुए तुरंत हरकत में आई पुलिस ने चारों अभियुक्त टिंकू, कृष्णा, सोनू और बर्कुर सिंह को धर दबोचा। चारों आरोपी जिला रामपुर के ही रहने वाले बताये जा रहे हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story