×

Nupur Sharma Controversy: हिन्दुओं को मिलेंगे हथियार, कट्टरपंथियों से लड़ने में VHP करेगी मदद

Nupur Sharma Controversy: जिन्होंने नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है, मुस्लिम अतिवादी उन लोगों को चुन-चुन कर निशाना बना रहे हैं।

Krishna Chaudhary
Updated on: 8 July 2022 12:46 PM GMT
Nupur Sharma Controversy: हिन्दुओं को मिलेंगे हथियार, कट्टरपंथियों से लड़ने में VHP करेगी मदद
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Lucknow: बीजेपी से निलंबति की जा चुकीं नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) के धर्म विशेष को लेकर की गई कथित अपमानजनक टिप्पणी को लेकर बवाल थमता नजर नहीं आ रहा है। हिंसक विरोध –प्रदर्शनों के बाद अब मुस्लिम अतिवादी उन लोगों को चुन-चुन कर निशाना बना रहे हैं, जिन्होंने नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है। अब तक दो लोगों को हत्या की जा चुकी है। इसके अलावा कई और लोगों को जान से मारने की धमकी दी गई है, जिन्होंने नूपुर के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट डाले थे।

इन वारदातों के बाद धमकी पाने वाले लोग सहमे हुए हैं और पुलिस से सुरक्षा की मांग कर रहे हैं। ऐसे लोगों की मदद के लिए अब विश्व हिंदू परिषद (Vishwa Hindu Parishad) (वीएचपी) आगे आया है। वीएचपी ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि मुस्लिम कट्टरपंथियों से लड़ने के लिए वे हिंदुओं को हथियार देंगे। इसके अलावा संगठन ने एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है। वीएचपी का कहना है कि इस हेल्पलाइन के जरिए उन हिंदुओं की मदद की जाएगी, जिन्हें जिहादियों ने जान से मारने की धमकी दी है। दरअसल संगठन का मानना है कि पुलिस ऐसी धमकियों से लोगों की रक्षा करने में नाकामयाब रही है। ऐसे में हेल्पलाइन के जरिए उन हिंदुओं तक तुरंत सहायता पहुंचायी जाएगी।

उदयपुर की घटना में पुलिस की थी लापरवाही

उदयपुर के टेलर कन्हैयालाल (Udaipur's Tailor Kanhaiyalal murdered) की मुस्लिम अतिवादियों ने गला रेत कर निर्मम हत्या कर दी थी। कन्हैया के आठ वर्षीय बेटे ने सोशल मीडिया पर नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट कर दिया था। जिस पर समुदाय विशेष की तरफ से उन्हें जान से मारने की धमकी मिलने लगी थी। उन्होंने पोस्ट के लिए माफी भी मांगी थी, लेकिन फिर भी हमलावरों ने दिनदहाड़े दुकान में घुसकर उनकी हत्या कर दी थी। बाद में पता चला कि कन्हैया ने स्थानीय पुलिस से लगातार मिल रही धमकियों को लेकर सुरक्षा की मांग की थी, लेकिन पुलिस ने उसे गंभीरता से नहीं लिया था।

कन्हैयालाल की हत्या से एक सप्ताह पहले 21 जून को अमरावती में केमिस्ट उमेश कोल्हे की भी मुस्लिम अतिवादियों ने इसलिए हत्या कर दी थी, क्योंकि उन्होंने नूपुर के समर्थन में सोशल मीडिया पोस्ट किया था। इन हत्याओं की खबर सामने आने के बाद कई और लोगों ने जान से मारने की धमकी मिलने की बात कही है।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story