Top

शिवराज जी ! मध्य प्रदेश में कूड़े के ढेर में मिले सैकड़ों आधार कार्ड

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 16 Dec 2016 1:41 AM GMT

शिवराज जी ! मध्य प्रदेश में कूड़े के ढेर में मिले सैकड़ों आधार कार्ड
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

भोपाल : मध्य प्रदेश के खरगोन जिले के बिस्टान क़स्बा पोस्ट ऑफिस में सैकड़ों आधार कार्ड कूड़े के ढेर में मिले हैं। इनमें से कई आधार कार्ड तो 2 वर्ष पुराने हैं। पोस्ट मास्टर से जब इस बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा की ये हमारा रिकार्ड रूम है।

बिस्टान पोस्ट ऑफिस के पास एक खंडर हो चुके मकान में कूड़े के ढेर में सैकड़ों आधार कार्ड मिले हैं। पोस्ट मास्टर एसके मिश्रा से जब इस बारे में सवाल किया गया, तो उन्होंने कहा कि यह हमारा रिकार्ड रूम है। उन्होंने बताया कि कई के पते सही नहीं थे। इस लिए ये बाटें न जा सके। जबकि एक स्थानीय युवक ने इस कूड़े के ढेर से अपने परिवार के कई कार्ड खोज भी लिए।

आपको बता दें पोस्ट मास्टर के झूट का पता इस बात से ही लग जाता है कि इस कमरे में न तो छत है और न ही कोई दरवाजा। इधर-उधर कूड़े का ढेर लगा हुआ नजर आ रहा है। कई आधार कार्ड तो दो वर्ष पुराने हैं, इनकी हालत बिगड़ चुकी है। मामला जब उच्चधिकारियों तक पंहुचा तो उन्होंने जाँच का आश्वासन थमा दिया।

आज जब की किसी भी सरकारी योजना का लाभ लेने के लिए आधार कार्ड आवश्यक हो चुका है तब ऐसी लापरवाही माफ़ी के लायक नहीं है। अब देखना ये होगा कि शासन और प्रशासन पोस्ट मास्टर और अन्य के खिलाफ क्या कदम उठाता है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story