×

Mumbai Drugs Case: 1800 करोड़ की हेरोइन लगी दिल्ली पुलिस के हाथ, खोजा जा रहा कनेक्शन

Mumbai Drugs Case: दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एक बड़े ड्रग रैकेट का भंडाफोड़ किया है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मुंबई स्थिक नावा शेवा बंदरगाह से 20 टन हेरोइन कोटेड मुलेठी बरामद की है।

Jugul Kishor
Updated on: 21 Sep 2022 10:43 AM GMT
कंटेनर से बरामद की गई होरोइन
X

कंटेनर से बरामद की गई होरोइन ( Pic : Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Mumbai Drugs Case: दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एक बड़े ड्रग रैकेट का भंडाफोड़ किया है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मुंबई स्थित नावा शेवा बंदरगाह से 20 टन हेरोइन कोटेड मुलेठी बरामद की है। बरामद की गई हेरोइन की कीमत लगभग 1800 करोड़ रुपए बताई जा रही है। दिल्ली पुलिस द्वारा नशे के खिलाफ की गई इस कार्रवाई को अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई माना जा रहा है। पुलिस भी इतनी भारी मात्रा में हेरोइन कोटेड मुलेठी देखकर चौंक गई।

अफगानी तस्करों की सूचना पर स्पेशल सेल को मिली कामयाबी

दिल्ली पुलिस ने कुछ दिनों पूर्व 2 अफगानी तस्करों को गिरफ्तार किया था। उन दोनों ने दिल्ली पुलिस की पूछताछ में नार्को टेरर का खुलासा किया था। अफगानी तस्करों द्वारा दी गई सूचना के आधार पर स्पेशल सेल ने 1200 करोड़ रुपए की ड्रग बरामद की थी। लंबी पूछताछ के बाद में अफगानियों ने सूचना दी थी कि मुंबई पोर्ट पर भी एक कंटेनर में ड्रग मौजूद है। दिल्ली पुलिस इन्ही अफगानियों के द्वारा दी गई सूचना के आधार पर इनको लेकर मुंबई नवा शेरा पोर्ट पहुंची, वहीं से दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को 20 टन से ज्यादा हेरोइन से कोटेड मुलेठी बरामद हुई है। बरामद की गई हेरोइन से कोटेड मुलेठी की अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत 1800 करोड़ रुपए आंकी गई है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने जिस कंटेनर से ड्रग बरामद की है वो उस कंटेनर को अपने साथ में दिल्ली ले आई है।

बरामद की गई ड्रग के तार नार्को टेरर से जुड़े

दि्ल्ली पुलिस के डीसीपी प्रमोद कुशवाहा के नेतृत्व में इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया है। स्पेशल से के द्वारा ऐसा भी माना जा रहा है कि बरामद की गई ड्रक के तार नार्को टेरर से जुड़े हुए हैं।

नार्कोटिक्स ब्यूरो और डीआरआई की टीम से बड़ी चूक

हैरान कर देने वाली बात यह है कि नार्कोटिक्स ब्यूरो और डीआरआई ने इस बरामद की गई खेप को कई बार चेक किया था, लेकिन वो इसको नहीं पकड़ पाए थे। अब सबसे बड़ा सवाल अब यही है कि इतनी बड़ी चूक नार्कोटिक्स ब्यूरो और डीआरआई की टीम से कैसे हो गई। तमाम तरह के सुरक्षा व्यवस्थाओं के होने के बावजूद यह ड्रग भारत में कैसे आ गई, और इस तरह के सवाल उठना नार्कोटिक्स ब्यूरो और डीआरआई की टीम पर जरुरी भी है।

बरामद की गई ड्रग का मामला इसलिए और संगीन माना जा रहा है क्योंकि दो दिन पहले ही दुनिया का सबसे बड़ा अफगानिस्तान का ड्रग तस्कर नूरजही को अमेरिका की जेल से आजाद हुआ है। नूरजही दुनिया का सबसे बड़ा ड्रग तस्कर माना जाता है। उसने अमेरिका के लिए भी ड्रग एजेंट बनकर लंबे समय तक काम किया हुआ है। इसलिए ऐसा भी माना जा रहा है कहीं न कहीं इस ड्रग से नूरजही न जुड़ा हुआ हो।

Jugul Kishor

Jugul Kishor

Next Story