Top

शरीफ की कुर्सी का काल बनने वाले Panama Papers के बारे में कितना जानते हैं आप

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 28 July 2017 1:54 PM GMT

शरीफ की कुर्सी का काल बनने वाले Panama Papers के बारे में कितना जानते हैं आप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: पड़ोसी देश पाकिस्तान के पीएम पनामा पेपर लीक मामले में आज अपनी कुर्सी से हाथ धो बैठे हैं। अपने यहाँ भी 300 के नाम सामने आए थे। लेकिन यहाँ कोई हलचल देखने को नहीं मिली। वहीँ इस मामले में सजा देने में हमारा बुरा पड़ोसी अच्छा साबित हुआ, और अब हिंदुस्तान में भी आने वाले दिनों में इस मामले की जाँच का दबाव बनेगा। तब तक हम और आप इंतजार करते हैं, और देखते हैं कि आखिर ऐसा क्या है इस पनामा लीक में जो सब हिले हुए हैं।

ये भी देखें:शरीफ ने 2016 में कहा था, ‘दोषी साबित हुआ तो इस्तीफा दे दूंगा’

पनामा पेपर्स के नाम से लीक हुए दस्तावेजों को खोजी पत्रकारों के अंतरराष्ट्रीय महासंघ ने दुनिया के सामने उजागर किया है। महासंघ के अनुसार दस्तावेजों की गहरी जाँच की गयी, इस जांच में दुनिया भर के फिल्मी और खेल जगत के सितारों के साथ ही लगभग 140 नेताओं व अरबपतियों की छिपी संपत्ति का खुलासा हुआ।

ये भी देखें:नवाज की शराफत पर दाग क्या लगा, पीएम पद पर खींचतान शुरू, भाई सबसे आगे

इस जांच में 2.6 टेराबाइट डेटा सामने आया, इसे डीवीडी में डालें तो 600 डीवीडी भर जाएंगी। ये डेटा 1977 से 2015 तक के लगभग 40 सालों का है। एक छोटे से देश पनामा की लॉ फर्म मोसैक फॉन्सेका से लीक हुए इस डेटा में दावा किया गया, कि इनमें 500 भारतीय सेलिब्रिटीज के नाम भी शामिल हैं, उनमें से 300 नामों की पुष्टि भी हो चुकी है।

रिपोर्ट के मुताबिक 'टैक्स सेविंग फर्म्स जो सेवाएं उपलब्ध कराती हैं, वो पूरी तरह कानूनी तो हैं। लेकिन बैंकों, लॉ फर्म्स और अन्य आर्थिक एजेंसियों ने कानूनी प्रक्रियाओं का पालन सही से नहीं किया। मध्यस्थों ने अपने ग्राहकों के संदिग्ध लेनदेन सामने नहीं आने दिए।'

बेहिसाब पैसा कमा रहे सेलिब्रिटीज अपने देश से बाहर जो बैंक खाते रखते हैं, उसका सीधा मकसद ये होता है, कि ये पैसा किसी की नजर में आने से बच जाए और उसपर टैक्स न देना पड़े। ये पैसा ऐसे देशों में रखा जाता है, जिन्हें टैक्स हैवन कहा जाता है, वहां इनके रख रखाव पर नाम मात्र का धन अदा करना पड़ता है।

ये भी देखें:राम को जन-जन तक पहुंचा रहा गीता प्रेस, जानिए छाप चुका है कितनी प्रतियां?

जहाँ भारत में पनामा पेपर्स की चपेट में अमिताभ बच्चन और उनकी बहू ऐश्वर्या राय बच्चन का नाम सामने आया है। वहीँ आइसलैंड, पाकिस्तान के पीएम, यूक्रेन के राष्ट्रपति, सऊदी अरब के राजा और ब्रिटिश राजनेता डेविड कैमरन के पिता का नाम भी सामने आया है।

इनके साथ ही रुसी प्रधानमंत्री व्लादिमीर पुतिन के कई करीबियों के साथ ही हॉलीवुड अभिनेता जैकी चैन और फुटबॉलर लियोनेल मेसी का नाम भी शामिल है

इन खुलासों के बाद दुनिया भर के देशों में पुलिस और टैक्स अथॉरिटीज़ ने जांच शुरू कर दी, जिनमें सबसे पहले पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा है। वहीँ अब दुनिया के बड़े बैंकों में शुमार एचएसबीसी, यूबीएस सहित ड्यूश बैंक भी जाँच के घेरे में हैं।

जिस लॉ फर्म मोसैक फॉन्सेका से ये पेपर हैक किये गए उसके को-फाउंडर रेमन फॉन्सेका ने कहा कि ये दस्तावेज पूरी तरह सही हैं और हैकर्स ने गैरकानूनी तरीके से इन्हें हैक किया।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story