×

IPL 2021: फाइनल में कभी नहीं हारी कोलकाता की टीम, एक बार CSK की मजबूत टीम को भी हराया

IPL 2021:कोलकाता के गेंदबाजों ने अच्छी गेंदबाजी करते हुए दिल्ली (Delhi Team) की टीम को 5 विकेट पर 135 रन पर ही रोक दिया।

Anshuman Tiwari

Anshuman TiwariWritten By Anshuman TiwariRagini SinhaPublished By Ragini Sinha

Published on 14 Oct 2021 6:17 AM GMT

Kolkata knight riders and Delhi capital
X

IPL 2021: कभी नहीं हारी कोलकाता की टीम, एक बार CSK की मजबूत टीम को भी हराया(social media)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

IPL 2021: IPL 2021 के दूसरे क्वालीफायर में बुधवार को कोलकाता नाइटराइडर्स (Kolkata Knight Riders) की टीम ने दिल्ली कैपिटल (Delhi Capitals) को तीन विकेट से हराकर फाइनल (IPL final) का टिकट कटा लिया। दिल्ली और कोलकाता (Delhi and Kolkata ka IPL Match) का यह मुकाबला अंतिम ओवर तक रोमांचक बना रहा और आखिरी ओवर की पांचवीं गेंद पर राहुल त्रिपाठी (Rahul Tripathi ne akhiri over main mara chakka) ने छक्का जड़कर जीत कोलकाता की झोली में डाल दी। कोलकाता (kolkata knightriders final main pahunchi) की टीम सात साल बाद फाइनल में पहुंचने में कामयाब हुई है। अब 15 अक्टूबर को कोलकाता का खिताबी मुकाबला चेन्नई सुपर किंग्स (chennai super kings) के साथ होगा।

कोलकाता (Kolkata team) की टीम के साथ एक दिलचस्प तथ्य यह जुड़ा हुआ है कि वह जब भी फाइनल में पहुंची है, उसने खिताबी मुकाबला जीतने में कामयाबी हासिल की है। इससे पहले टीम दो बार फाइनल में पहुंच चुकी है और दोनों बार टीम ने जीत हासिल की है। 2012 में तो कोलकाता ने चेन्नई सुपर किंग्स (kolkata ne 2012 main Chennai super kings ko haraya tha) को ही हराकर खिताब जीता था। कोलकाता के कप्तान इयॉन मोर्गन (Kolkata captain Eoin Morgan) का कहना है कि हम इस बार भी फाइनल में जीत के अपने रिकॉर्ड को कायम रखना चाहते हैं।


दूसरे क्वालिफायर में जोरदार मुकाबला

बुधवार को दूसरे क्वालिफायर का मुकाबला काफी उतार-चढ़ाव भरा रहा। कोलकाता के गेंदबाजों ने अच्छी गेंदबाजी करते हुए दिल्ली (Delhi Team) की टीम को 5 विकेट पर 135 रन पर ही रोक दिया। कोलकाता (Kolkata) की ओर से वरुण चक्रवर्ती (cricketer Varun Chakravarthy) ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 26 रन देकर दो विकेट लिए। कोलकाता (Kolkata Knight Riders) के अन्य गेंदबाजों ने भी अच्छी गेंदबाजी करते हुए दिल्ली को बड़ा स्कोर नहीं बनाने दिया। दिल्ली की ओर से कप्तान ऋषभ पंत ( Delhi Caption Rishabh Pant) इस महत्वपूर्ण मुकाबले में कोई कमाल नहीं दिखा सके और 6 गेंदों पर 6 रन ही बना सके। धवन ने 36 रन जरूर बनाए मगर इसके लिए उन्होंने 39 गेंद खेल डाली। श्रेयस अय्यर 27 गेंदों पर 30 रन बनाकर नाबाद रहे।

मजबूत स्थिति के बाद फ॔स गया था मैच

दिल्ली के स्कोर का पीछा करने उतरी कोलकाता नाइटराइडर्स (Kolkata Knight Riders) की टीम एक समय काफी मजबूत स्थिति में थी। कोलकाता की ओर से शुभमन गिल और वेंकटेश ने पहले विकेट के लिए 96 रन जोड़कर कोलकाता की जीत की नींव रखी। एक समय कोलकाता की टीम काफी मजबूत स्थिति में नजर आ रही थी और उसने एक विकेट पर 123 रन बना लिए थे मगर इसके बाद दिल्ली के गेंदबाज मैच का रुख बदलते नजर आए। कोलकाता की टीम ने 22 गेंद के भीतर सिर्फ 7 रन जोड़कर छह विकेट गंवा दिए। कोलकाता के स्टार खिलाड़ी माने जाने वाले कार्तिक, शाकिब, मोर्गन और सुनील नारायण तो अपना खाता तक नहीं खोल सके। इन खिलाड़ियों की विफलता से कोलकाता की टीम दबाव में आ गई और मैच एक बार फिर दिल्ली के हाथ में जाता हुआ दिखने लगा।


अश्विन का कमाल और फिर राहुल का जवाब

कोलकाता की टीम को अश्विन के आखिरी ओवर में जीत के लिए 7 रन बनाने थे मगर अश्विन ने शानदार गेंदबाजी करते हुए मैच फंसा दिया था। उनकी पहली गेंद पर राहुल सिर्फ एक रन बना सके जबकि दूसरी गेंद पर कोई रन नहीं बना। तीसरी और चौथी गेंद पर अश्विन ने लगातार दो विकेट लेकर कोलकाता की टीम को संकट में डाल दिया। तीसरी गेंद पर उन्होंने शाकिब को आउट किया है जबकि चौथी गेंद पर सुनील नारायण आउट हुए। कोलकाता की टीम पर दबाव काफी बढ़ गया था मगर पांचवीं गेंद पर राहुल त्रिपाठी ने शानदार छक्का जड़ते हुए जीत कोलकाता की झोली में डाल दी। कोलकाता की टीम ने 7 विकेट पर 136 रन बनाकर 3 विकेट से जीत हासिल की। इसी के साथ कोलकाता की टीम तीसरी बार खिताबी मुकाबले में पहुंच गई।

सात साल बाद फाइनल में पहुंची टीम

यदि आईपीएल के इतिहास को देखा जाए तो कोलकाता की टीम 7 साल बाद फाइनल में पहुंची है। इसके पहले टीम 2012 और 2014 में फाइनल में पहुंच चुकी है। कोलकाता की टीम के साथ एक उल्लेखनीय तथ्य यह जुड़ा हुआ है कि उसने जब भी फाइनल में प्रवेश किया है तब फाइनल मुकाबला जीता है। 2012 के खिताबी मुकाबले में कोलकाता ने चेन्नई सुपर किंग्स को 5 विकेट से हराया था जबकि 2014 के फाइनल मुकाबले में कोलकाता नाइटराइडर्स को किंग्स इलेवन पंजाब पर 3 विकेट से जीत हासिल हुई थी।

2019 और 2020 में कोलकाता की टीम अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकी थी और दोनों ही साल टीम को पांचवां स्थान मिला था मगर आईपीएल 2021 के मुकाबले में टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए फाइनल में जगह बनाई है। फाइनल मुकाबले में कोलकाता का सामना 15 अक्टूबर को चेन्नई सुपर किंग्स की ताकतवर टीम से होगा।

फाइनल में होगा जोरदार मुकाबला

क्वालीफायर मुकाबले में दिल्ली पर जीत के बाद कोलकाता नाइटराइडर्स के कप्तान इयॉन मोर्गन (Kolkata knight Riders captain Eoin Morgan) काफी उत्साहित दिखे। उन्होंने कहा कि टीम ने दो बार फाइनल (Final Match) में पहुंचने के बाद जीत हासिल की है और हम अपने इस रिकॉर्ड को इस बार भी बनाए रखना चाहेंगे। उन्होंने कहा कि फाइनल में जगह बनाने वाली दूसरी टीम चेन्नई सुपर किंग्स (Chennai super kings)भी काफी ताकतवर है। ऐसे में जोरदार मुकाबले की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि शुक्रवार को होने वाले फाइनल मुकाबले के लिए हमारी टीम पूरी तरह तैयार है और हम जीत हासिल करने के लिए पूरी ताकत लगाएंगे।

Ragini Sinha

Ragini Sinha

Next Story