Top

सीएम हेमंत सोरेन ने की बैठक, कोरोना को कंट्रोल करने के लिए उठाए ये कदम

झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने राज्य में कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ रहे मामले को लेकर सैन्य अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक की।

Newstrack

NewstrackNewstrack Network NewstrackRoshni KhanPublished By Roshni Khan

Published on 22 April 2021 6:29 AM GMT

Jharkhand CM Hemant Soren discusses with officials on corona
X

सीएम हेमंत सोरेन (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रांची: हर तरफ कोरोना का कहर बढ़ता जा रहा है, इसी को देखते हुए अलग-अलग राज्य के सभी सीएम कोई न कोई कदम उठा रहे है। झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने राज्य में कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ रहे मामले को लेकर सैन्य अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक की। सीएम ने कहा कि, 'कोविड-19 की वजह से जिस तरह के हालात पैदा हो रहे हैं, उसमें सेना राज्य सरकार को सहयोग करे।' उन्होंने कहा कि, 'झारखंड में सेना के जो अस्पताल हैं, वहां सामान्य मरीजों का भी इलाज हो सके। इस दिशा में पहल हो। सेना और जनभागीदारी से ही कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण स्थापित कर सकते हैं।'

सीएम ने कहा कि रांची, जमशेदपुर, धनबाद समेत 6 जिले कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। इसके साथ रांची में सबसे ज्यादा कोविड-19 के मरीज हर दिन मिल रहे हैं और दूसरे जिलों से भी इलाज के लिए बड़ी संख्या में संक्रमित रांची पहुंच रहे हैं। जिस वजह से रांची में मरीजों की संख्या बहुत बढ़ गई है, लेकिन अस्पतालों की क्षमता उस हिसाब से नहीं है। ऐसे में मरीजों के इलाज में दिक्कतें भी आ रही है। सरकार इन जिलों का सर्किट बनाकर वहां बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार कर रही है, ताकि वहां के मरीजों का वहीं बेहतर इलाज मिल सके।

उन्होंने सेना के अधिकारियों से कहा कि इसमें अगर सेना अपना सहयोग करती है तो मरीजों का विश्वास बढ़ेगा और रांची जैसे जिलों में मरीजों के आने की संख्या भी कम होगी।

अस्पतालों को संसाधन उपलब्ध कराएगी सरकार

उन्होंने कहा कि, 'सेना का रांची के नामकुम और रामगढ़ में जो अस्पताल हैं, वहां अगर सामान्य कोविड मरीजों के इलाज की अनुमति केंद्र सरकार से मिलती है तो राज्य सरकार वहां ऑक्सीजन युक्त बेड बढ़ाने, वेंटिलेटर की सुविधा समेत अन्य सभी चिकित्सीय जरूरत के संसाधनों को उपलब्ध कराएगी।' उन्होंने कहा कि, 'सेना के अस्पतालों में अनुभवी चिकित्सक और पारा मेडिकल कर्मी और अन्य मानव बल उपलब्ध हैं। इनका सहयोग मिलने से निश्चित तौर पर कोरोना मरीजों का बेहतर इलाज हो सकेगा।'

आइसोलेशन सेंटर बनाने की तैयारी सरकार कर रही

सीएम ने कहा कि, 'एक हजार बेड का आइसोलेशन सेंटर बनाने की भी तैयारी सरकार कर रही है। यहां आइसोलेशन में रहने वाले संक्रमितों का देखभाल बेहतर तरीके से किया जाएगा।' उन्होंने कहा कि, 'अगर सभी अस्पतालों का शत प्रतिशत क्षमता का इस्तेमाल हो तो मरीजों को बेड के लिए परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा।'

रक्षा मंत्रालय गंभीरता से कर रहा विचार

सेना के अधिकारियों ने सीएम को बताया कि, उनके द्वारा पीएम को जो पत्र प्रेषित किया गया है, उसपर रक्षा मंत्रालय काफी गंभीरता से विचार कर रहा है। सेना के अस्पतालों और मानव बल का कोरोना संक्रमण और मरीजों के इलाज में सहयोग लेने के सिलसिले में मंत्रालय द्वारा जो निर्देश मिलेगा, उसी के हिसाब से वे आगे की कार्रवाई करेंगे।

उन्होंने आगे सीएम को बताया कि, राज्य में सेना के दो अस्पताल झारखंड में हैं। इसमें एक रांची जिला के नामकुम और दूसरा रामगढ़ में है। रांची के सैन्य अस्पताल में कुल बेडों की संख्या लगभग 400 है। इसमें से 200 बेड कोविड मरीजों के लिए है। यहां अठारह ऑक्सीजन युक्त बेड हैं और तीस बेड पर ऑक्सीजन की सुविधा उपलब्ध कराने की पहल शुरू हो गई है। वहीं, रामगढ़ में 120 बेड का अस्पताल है।

सीएम ने कहा कि, 'अगर सेना अपने सैन्य अस्पताल में कुछ बेड सामान्य मरीजों के लिए उपलब्ध कराए। सरकार की ओर से सभी बेडों पर ऑक्सीजन की व्यवस्था कराई जाएगी।'

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story