×

TRENDING TAGS :

Election Result 2024

झारखंड में चढ़ा राजनीतिक पारा, विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले ने पकड़ा तूल

Jharkhand Politics : झामुमो केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य भाजपा पर जोरदार हमला करते हुए कहा की झारखंड में भाजपा राज्य सरकार को आस्थिर करने की साजिश लगातार करती रही है।

Jharkhand Shahnawaz Idrisi
Written By Jharkhand Shahnawaz IdrisiPublished By Shivani
Published on: 24 July 2021 2:19 PM GMT
Jharkhand Politics
X

झारखंड के नेता और विधायक खरीद में शामिल आरोपी 

Jharkhand Politics : राजधानी रांची (Ranchi) में हवाला कारोबार (Horse Trading) से जुड़े और विधायक के खरीद-फरोख्त के मामले में तीन आरोपियों के गिरफ्तारी के बाद झारखंड में राजनीतिक पारा चढ़ गया है। सत्तारूढ़ तीनों पार्टियों ने महागठबंधन सरकार को अस्थिर करने का गंभीर आरोप भाजपा पर लगाया है। झामुमो केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य (JMM Leader Supriyo Bhattacharya) भाजपा पर जोरदार हमला करते हुए कहा की झारखंड में भाजपा (Jharkhand BJP) राज्य सरकार को आस्थिर करने की साजिश लगातार करती रही है। जब-जब उपचुनाव हुए तब तब भाजपा के सांसद विधायक सभी ने राज्य सरकार के गिर जाने और भाजपा सरकार के गठन की बात कही है।

कांग्रेस ने बताया भाजपा की फितरत:

झारखंड कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा है कि भाजपा की देशभर में इस तरह का कृत्य करना उनका फितरत में रहा है लेकिन जल्द ही रांची पुलिस इसका दूध का दूध और पानी का पानी करने में कामयाब होगी। गैर बीजेपी शासित राज्यों में इनका काम रह गया विधायकों खरीद-फरोख्त कर उनके सरकार को गिराना।

कैबिनेट मंत्री ने कहा, सरकार रहेगी स्थिर:

आरजेडी कोटे से श्रम मंत्री बने सत्यानंद भोक्ता ने कहा कि, भाजपा कितनी भी कोशिश कर ले राज्य में सरकार गिराने में नाकामयाब ही रहेगी। झारखंड में महागठबंधन की सरकार अटूट है और अटूट ही रहेगी।

भाजपा ने आरोप को बताया बेबुनियाद:

भाजपा पर लगे गंभीर आरोपों का बचाव करते हुए पूर्व मंत्री सह रांची विधायक सीपी सिंह ने कहा की झारखंड मुक्ति मोर्चा या कांग्रेस पार्टी का भाजपा पर आरोप लगाने की उनकी दिनचर्या बन गई है। होटलों से जो पैसे पकड़ी गई है इन सबों को लेकर भाजपा पर आरोप लगाना, यह राज्य सरकार की कमियों को छुपाने की तरह है। सत्ताधारी दलों को विधायकों के नाम का भी खुलासा करना चाहिए जिनसे खरीद-फरोख्त के लिए संपर्क की गई है। यह सब सत्ताधारी दलों के तरफ से ही प्लांट किया गया है ताकि नाराज चल रहे विधायकों को मैनेज किया जा सके। विधायकों को खरीदने के लिए भाजपा के पास पैसा कहां से आएगा।

Shivani

Shivani

Next Story