×

Indian Navy Agneepath Scheme 2022 : इंडियन नेवी को अग्निपथ योजना के तहत मिले 5.62 लाख आवेदन

भारतीय नौसेना ने बताया है कि 27 जुलाई तक अग्निपथ सैन्य भर्ती योजना के तहत 5 लाख 62 हजार आवेदन प्राप्त हुए हैं। इंडियन नेवी ने 02 जुलाई को योजना के तहत भर्ती प्रक्रिया शुरू की थी।

aman
Written By aman
Updated on: 28 July 2022 10:33 AM GMT
indian navy agneepath scheme 2022 navy receives 5 62 lakh applications
X

Indian Navy Agneepath Scheme 2022 (social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Indian Navy Agneepath Scheme 2022 : 'अग्निपथ भर्ती' योजना (Agneepath Recruitment 2022) के तहत भारतीय नौसेना (Indian Navy) को युवाओं का आवेदन लगातार प्राप्त हो रहा है। अग्निपथ सैन्य भर्ती (Agneepath Bharti 2022) योजना के तहत भारतीय नौसेना को अब तक 5 लाख 62 हजार 818 आवेदन प्राप्त हुए।

बता दें कि, इंडियन नेवी ने इसी महीने की शुरुआत में 02 जुलाई 2022 को 'अग्निपथ योजना' (Agneepath Scheme) के तहत भर्ती प्रक्रिया शुरू की थी। इस बारे में रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने नौसेना में भर्ती प्रक्रिया के संबंध में ट्वीट किया। 27 जुलाई 2022 की सुबह 9 बजे तक नौसेना को कुल 5,62,818 अभ्यर्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया है।

कौन कर सकता है आवेदन?

आपको बता दें 'अग्निपथ योजना' केंद्र की महत्वाकांक्षी स्कीम में से एक है। अग्निपथ भर्ती प्रक्रिया के तहत साढ़े 17 साल से 21 साल की आयु वर्ग के युवाओं को 4 वर्षीय कार्यकाल के लिए सेना में नौकरी का मौका दिया जाएगा। बाद में सरकार ने उम्र सीमा बढ़ाकर 21 से 23 साल किया था। हालांकि, चयनित उम्मीदवारों में से महज 25 प्रतिशत को ही बाद में नियमित किया जाएगा। इसके अतिरिक्त, सेवानिवृत्ति के बाद अग्निवीरों को केंद्रीय अर्धसैनिक बलों (central paramilitary forces) और सार्वजनिक क्षेत्र के रक्षा उपक्रमों की नौकरियों में वरीयता देने जैसे कदमों की घोषणा की गई थी।

'अग्निपथ योजना' के खिलाफ हुए थे हिंसक प्रदर्शन

गौरतलब है कि, 14 जून 2022 को केंद्र की मोदी सरकार ने 'अग्निपथ योजना' की घोषणा की थी। जिसके बाद करीब एक हफ्ते तक कई राज्यों में इसके खिलाफ हिंसक प्रदर्शन आदि हुए थे। बिहार में प्रदर्शनों का दौर लंबा चला। वहां कई ट्रेनों को आग के हवाले कर दिया गया। तब कई विपक्षी पार्टियों ने केंद्र से इस योजना को वापस लेने की मांग की थी।

aman

aman

Next Story