Top

केरल: कांग्रेस ने 26 साल की अरिता बाबू को दिया टिकट, जानें इनके बारें में

केरल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने 26 साल की एक युवती को विधानसभा चुनाव के लिए टिकट दिया है।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautamBy Shashi kant gautam

Published on 31 March 2021 1:37 PM GMT

केरल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने 26 साल की एक युवती को विधानसभा चुनाव के लिए टिकट दिया है।
X

26 years old Arita Babu-(photo- Social Media)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

केरल: देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की तैयारियां तेज़ी से चल रही हैं। केरल में प्रत्येक पांच वर्ष पर सरकार बदलने का ट्रेंड रहा है। कांग्रेस पार्टी पर इस ट्रेंड को बरकरार रखने का दबाव है। देश की सबसे पुरानी पार्टी केरल की सत्ता पर काबिज होने के लिए हर दांव आजमा रही है। कांग्रेस पार्टी ने 26 साल की एक युवती को विधानसभा चुनाव के लिए टिकट दिया है।

कांग्रेस की सबसे युवा उम्मीदवार हैं 26 साल की अरिता बाबू

बता दें कि किसान परिवार की 26 साल की अरिता बाबू केरल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सबसे युवा उम्मीदवार है। वह कयामकूलम से चुनाव लड़ रही हैं। टिकट मिलने पर खुशी जाहिर करते हुए अरिता बाबू ने कहा है कि '21 साल की उम्र में कांग्रेस पार्टी ने मुझे जिला पंचायत के लिए चुना। अब मुझे विधानसभा उम्मीदवार बनाया गया है। यह मेरा क्षेत्र है और मैं सौ प्रतिशत यहां से चुनाव जीतूंगी।'


2024 में केंद्र की सत्ता में आने का रास्ता खुलेगा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ओमन चांडी ने बुधवार को कहा कि केरल और कुछ अन्य राज्यों के विधानसभा चुनावों के नतीजों से उनकी पार्टी की एक बार फिर से राष्ट्रीय राजनीति के फलक पर वापसी और 2024 में केंद्र की सत्ता में आने का रास्ता खुलेगा। केरल में कांग्रेस की अगुवाई वाले मोर्चे यूडीएफ की तरफ से मुख्यमंत्री पद के प्रमुख दावेदारों में शुमार चांडी ने यह भी कहा कि उनके गठबंधन के जीतने की स्थिति में मुख्यमंत्री को लेकर फैसला करने में कोई समस्या नहीं होगी और इस संदर्भ में पार्टी आलाकमान का निर्णय सभी नेताओं को स्वीकार होगा।

पिछले चुनाव में जनता से कई वादे किए थे-चांडी

उन्होंने केरल विधानसभा चुनाव में संयुक्त लोकतांत्रिक मोर्चा (यूडीएफ) के जीत की उम्मीद जताते हुए कहा कि माकपा की अगुवाई वाले वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) ने पिछले चुनाव में जनता से कई वादे किए थे, लेकिन पांच साल तक सत्ता में रहने के बावजूद एक भी वादा पूरा नहीं किया।


Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story