×

आरुषि हत्याकांड : डासना जेल से करीब चार साल बाद रिहा राजेश-नूपुर तलवार

aman

amanBy aman

Published on 16 Oct 2017 7:45 AM GMT

आरुषि हत्याकांड : डासना जेल से करीब चार साल बाद रिहा राजेश-नूपुर तलवार
X
आरुषि हत्याकांड: थोड़ी देर में डासना जेल से रिहा होंगे राजेश-नूपुर तलवार
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ/गाजियाबाद: इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर आरुषि-हेमराज हत्याकांड में करीब चार साल जेल की सजा काटने के बाद आज (16 अक्टूबर) आरुषि के माता-पिता राजेश और नुपुर तलवार गाजियाबाद के डासना जेल से रिहा हुए। हाईकोर्ट के आदेश की कॉपी पहुंचने के बाद सीबीआई कोर्ट और डासना जेल में इसकी प्रक्रिया के बाद रिहा हुए ।

बता दें, कि सीबीआई की अदालत ने तलवार दंपति को हत्या का आरोपी मानते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। जबकि हाईकोर्ट ने उन्हें संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया है।

ये भी पढ़ें ...Exclusive: आरुषि के नाना बोले- शोक मनाने तक का नहीं मिला था समय…

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गुरुवार (12 अक्टूबर) को ही तलवार दंपति की रिहाई के आदेश दिए थे। लेकिन जेल प्रशासन को समय से फैसले की कॉपी नहीं मिली थी और शनिवार तथा रविवार को छुट्टी के बाद संभावना है कि आज दोनों की रिहाई हो जाएगी।

ये भी पढ़ें ...आरुषि-हेमराज हत्याकांड: देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री आज भी अनसुलझी

जेल में कमाए 99,000 रुपए दान किया

तलवार दंपति ने जेल में 1,417 दिन बिताए। इस दौरान राजेश और नूपुर तलवार ने कमाए कुल 99,000 रुपए कैदियों के कल्याण के लिए जेल प्रशासन को दान कर दिया। बता दें, कि जेल में रहने के दौरान राजेश तलवार ने एक हॉस्पिटल के सहयोग से तैयार कराए डेंटल क्लिनिक में पूरा समय दिया। इस दौरान उन्होंने जेल अफसरों और बंदियों के दांतों का इलाज किया। जबकि नूपुर ने अपना समय बच्चों और अनपढ़ महिलाओं को पढ़ाने में बिताया। दोनों ने 49,500-49,500 रुपए कमाए।

ये भी पढ़ें ...आरुषि केस: पड़ोसियों ने कहा- देर से ही सही इंसाफ मिला, लेकिन सवाल अब भी बरकरार

रविवार को अन्य कैदियों के साथ खाना खाया

जेल अधीक्षक दधिराम मौर्य ने बताया, कि जेल प्रशासन ने तलवार दंपती की रिहाई के दस्तावेजों को तैयार कर लिया है। कोर्ट की सर्टिफाइड कॉपी मिलते ही उन्हें रिहा कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि रविवार को दोनों ने अन्य कैदियों के साथ खाना भी खाया।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story