Top

प्रधानमंत्री के बाद मंत्री जी को जान का खतरा! पीछा करने वाले तीनों छात्र हिरासत में

Manoj Dwivedi

Manoj DwivediBy Manoj Dwivedi

Published on 11 Jun 2018 10:20 AM GMT

प्रधानमंत्री के बाद मंत्री जी को जान का खतरा! पीछा करने वाले तीनों छात्र हिरासत में
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मिर्जापुर: प्रधानमंत्री को जान से मारने वाले लेटर के बाद अब केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल को भी जान का खतरा महसूस हुआ। उनके काफिले का पीछा करने वाले तीन छात्रों को पुलिस ने हिरासत मेें ले लिया और पूछताछ जारी है। वैसे इस मामले को पब्लिसिटी स्टंट भी कहा जा रहा है।

यह है पूरा मामला

केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की सुरक्षा व्यवस्था में चूक होने की घटना सामने आई है। मिर्जापुर से सड़क के रास्ते वाराणसी एयरपोर्ट जा रहीं केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री के काफिले में फोर्ड कार में सवार तीन छात्रों ने सेंध लगाने की कोशिश की जिसे मंत्री जी ने बहुत गंभीरता से लिया और तुरंत पुलिस को सूचित कर दिया।

किसने कहा- मोदी सरकार सिर्फ 15 सबसे अमीर लोगों के लिए काम कर रही

धरे गये तीनों छात्र

सूचना मिलते ही हरकत मेें आई तीन जिलों की पुलिस ने वाराणसी के मिर्जामुराद में बैरिकेडिंग करके फोर्ड कार का रोक लिया और उसमेें सवार तीनों युवकों को हिरासत में ले लिया। वैसे इस मामले में जानकारों का कहना है कि यह घटना मात्र एक प्रोपोगेंडा है। साधारणतया किसी मंत्री के साथ पूरा काफिला होता है, जिसमें दर्जनों गाड़ियों के साथ ही सरकारी गनर व पर्सनल सुरक्षाकर्मी होते हैं। गाड़ियों की स्पीड लगभग 80 से 100 तक तो रहती ही है इसके बाद भी यदि इस तरीके की वारदात होती है तो वो असंभव लगती है।

मोदी जी सुनिए ! केजरीवाल सकारात्मक राजनीति करने का आग्रह कर रहे

भदोही के हैं तीनों छात्र

जानकारी के अनुसार तीनों लड़के भदोही के हैं और बीएएमएस के छात्र हैं। मंत्री जी के सहयोगी रामकुमार विश्वकर्मा ने बताया कि चील्ह पुलिस चौकी के समीप से कार सवार तीन युवक केंद्रीय मंत्री की फ्लीट के पीछे लग गए। कभी वो आगे जा रहे थे तो कभी बगल में कार लेकर चलने लग जा रहे थे। स्कॉर्ट वाहन में मौजूद पुलिसकर्मियों और मंत्री के पीआरओ ने मना किया लेकिन तीनों मानने को तैयार नहीं थे। उल्टे, गालीगलौज और हाथ से मारने का इशारा कर रहे थे। सीओ बडागांव शफीक अहमद खान ने बताया तीनों से पूछताछ के बाद उन्हें कोर्ट भेज दिया गया है।

Manoj Dwivedi

Manoj Dwivedi

MJMC, BJMC, B.A in Journalism. Worked with Dainik Jagran, Hindustan. Money Bhaskar (Newsportal), Shukrawar Magazine, Metro Ujala. More Than 12 Years Experience in Journalism.

Next Story