×

टॉपर घोटाला: बिहार के पूर्व डायरेक्टर लालकेश्वर पत्नी समेत गिरफ्तार

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 20 Jun 2016 5:30 AM GMT

टॉपर घोटाला: बिहार के पूर्व डायरेक्टर लालकेश्वर पत्नी समेत गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

वाराणसी: बिहार के इंटर टॉपर घोटाले में बिहार बोर्ड के पूर्व चेयरमैन लालकेश्वर सिंह और उनकी पत्नी ऊषा सिन्हा को अरेस्ट कर लिया गया है। इनकी गिरफ्तारी स्पेशल टीम ने की है। ऊषा सिन्हा जेडीयू की पूर्व विधायक है।

इस मामले में गिरफ्तार घोटाले के सरगना बच्चा राय ने पुलिस को बताया कि टॉपर घोटाले का मास्टरमाइंड लालकेश्वर सिंह ही है और उनकी पत्नी ऊषा सिन्हा भी इसमें शामिल हैं। टीम ने दोनों को उत्तर प्रदेश के वाराणसी से गिरफ्तार किया है। जल्द एसआईटी उनसे पूछताछ करेगी।

जेडीयू ने ऊषा सिन्हा काे पार्टी से निकाला था

-ऊषा सिन्हा का इससे पहले भी घोटाले में नाम आने के बाद जेडीयू ने उन्हें पार्टी से बाहर निकाल दिया था।

-उन्हें महिला कॉलेज की प्रिंसपल पद से भी हटा दिया गया था।

-इस मामले में पुलिस ने अब तक 9 लोगों के अरेस्‍ट किया था।

-पूछताछ के दौरान ये बात सामने आई थीं कि इस मामले के मास्टर माइंड लालकेश्वर सिंह और उनकी पत्नी ऊषा सिन्हा शामिल हैं।

-यही वो दो लोग हैं जो इस पूरे मामले को मैनेज करते हैं।

क्या है पूरा मामला?

- वैशाली के भागलपुर के वीआर कॉलेज के स्‍टूडेंट सौरभ श्रेष्ठ, राहुल कुमार और रूबी राय ने इंटर आर्ट्स और साइंस के रिजल्ट में टॉप किया था।

-साइंस टॉपर सौरभ और आर्ट्स टॉपर रूबी राय का एक टीवी चैनल ने स्टिंग किया था।

- वीडियो फुटेज में रूबी राय पॉलिटिकल साइंस को प्रोडिकल साइंस कहती हुई सुनी गई थीं वहीं सौरभ को साइंस का बेसिक नॉलेज तक नहीं था।

- बिहार बोर्ड ने 3 जून को 1 से 5 रैंक तक टॉप किए स्टूडेंट्स को इंटरव्यू के लिए बुलाया था।

- रूबी राय इस इंटरव्यू में नहीं पहुंची थी, जबकि सौरभ ने इंटरव्यू के दौरान एक सवाल के जवाब में कहा था कि सवाल नहीं पूछिए, सुसाइड कर लूंगा।

आखिर कौन हैं लालकेश्वर

- बिहार बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष लालकेश्वर सिंह पटना यूनिवर्सिटी के पूर्व प्रोफेसर रहे हैं। -इन्हें पटना कॉलेज का प्रिंसिपल भी बनाया गया था।

- हालांकि, लगातार विवादों में रहने के कारण 6 महीने में इन्हें पद छोड़ना पड़ा था।

- 2008 में पटना कॉलेज में इनके खिलाफ हंगामा मचा था।

- यूनिवर्सिटी से रिटायर होने के बाद इनको पॉलिटिकल कनेक्शन के तहत 2014 में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के चेयरमैन का पद मिला था।

Newstrack

Newstrack

Next Story