BSP ने कहा- दहेज हत्या के आरोपी MP पर तुरंत कार्रवाई नहीं करेगी पार्टी

Published by Admin Published: April 9, 2016 | 3:13 pm
Modified: August 10, 2016 | 4:04 am

बलिया: अपनी बहु की दहेज हत्या के मामले में फंसे बीएसपी एमपी नरेंद्र कश्यप के खिलाफ बीएसपी के प्रदेश अध्यक्ष राम अचल राजभर ने फौरन कोई कार्रवाई करने से इंकार कर दिया है।

बता दें कि इससे पूर्व बीएसपी ने जौनपुर सीट से अपने पूर्व एमपी धनंजय सिंह पर तत्काल कार्रवाई करते हुए उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया था। आरोप था कि धनंजय सिंह ने अपनी पत्नी जागृति सिंह के साथ मिलकर नौकरानी की हत्या की। इसके अलावा धनंजय के खिलाफ रेप और मर्डर जैसे संगीन मामलों में भी केस दर्ज थे।

कोर्ट से फैसला आने के बाद कार्रवाई पर विचार
-बीएसपी प्रदेश अध्यक्ष राम अचल राजभर बलिया जिले के बिल्थरा रोड में जिला मुख्यालय से 62 किमी दूर आयोजित पार्टी के भाई-चारा सम्मेलन में भाग लेने आए थे।
-राम अचल राजभर ने मीडिया से कहा कि पार्टी नरेंद्र कश्यप के खिलाफ कोर्ट से  फैसला आने के बाद कार्रवाई पर विचार और निर्णय करेगी।

-उन्होंने कहा कि यह कानून का मामला है।
-गलत और सही  का फैसला कोर्ट में होगा, जिसके बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी।
-राम अचल ने कहा कि पार्टी मुखिया इस पर सोच रही हैं।

यह भी पढ़ें … दहेज के लिए मर्डर? BSP MP नरेंद्र कश्यप बेटा-पत्नी सहित पहुंचे जेल

मीडिया के सवाल पर खोया आपा
-मीडिया ने जब प्रदेश अध्यक्ष से पूछा कि पार्टी अनुशासनहीनता के मामले में किसी को भी तत्काल पार्टी से निकाल देती है तो फिर कश्यप पर कार्रवाई के मामले में दोहरा नजरिया क्यों है?
-इस सवाल के जबाब में राजभर आपा खो बैठे और कहा कि किसी के भी ऊपर कैसे आरोप कोई लगा देता है।
-कोई कह दे कि राम अचल चोर है तो ऐसे ही कार्रवाई नही हो जायेगी।
ram-achal-rajbhar

बीएसपी का किसी दल से नहीं होगा गठजोड़
-राजभर ने यूपी में 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी (AIMIM) से गठजोड़ की संभावना से इंकार किया।
-उन्होने कहा की बीएसपी कार्यकर्ताओ के बलबूते सोशल इंजीनियरिंग के जरिये सर्व समाज का सहारा लेकर अकेले चुनाव लड़ेगी।
-बीएसपी का किसी दल से गठजोड़ नही होगा।

यह भी पढ़ें … BSP के पूर्व MP बब्बन राजभर पार्टी से निष्काषित, अनुशासनहीनता का आरोप

अखिलेश सरकार  के जंगलराज से जनता त्रस्त
-उन्होंने कहा कि यूपी में अखिलेश सरकार  के जंगलराज से जनता त्रस्त हो गई है।
-इस सरकार से निजात पाने के लिए स्वयं मायावती 5वीं बार मुख्यमंत्री बनने का निर्णय ले चुकी हैं।
-जनता को अब महज चुनाव आयोग की तरफ से विधानसभा चुनाव की तारीख निर्धारित होने का इंतजार है।

जातिगत आधार पर बने नए दलों को कहा- वोटकटवा
-सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष ने बीजेपी, सपा और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा।
-उन्होने कहा कि पीएम मोदी केवल वोट के लिए अंबेडकर के भक्त है।
-उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी को ललकारते हुए कहा कि यदि मोदी मानते है कि वह डॉ॰ अंबेडकर के सच्चे भक्त हैं तो नौकरियों में एससी-एसटी के बैकलॉग को भरकर दिखाएं।

-पूर्व एमपी बब्बन राजभर को पार्टी से निकाले जाने के 2 दिन बाद उन्हीं के गृह विधानसभा क्षेत्र में उन्होंने बब्बन का नाम लिए बगैर उनसे राजभर जाति के लोगो को आगाह किया।
-राम अचल ने ओबीसी वर्ग को रिझाते हुए जातिगत आधार पर बने नए दलों को वोटकटवा करार दिया।

बीएसपी समर्थकों ने ही किया विरोध
एक तरफ बसपा नेता बिल्थरा रोड के रामलीला मैदान में गरज रहे थे वहीं दूसरी ओर सभास्थल से 1 किलोमीटर दूरी पर चौकिया मोड़ के पास पूर्व एमपी बब्बन राजभर को पार्टी से निकाले जाने के विरोध में उनके समर्थको ने प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया और उनका पुतला दहन किया ।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App