×

NSG में भारत की राह का रोड़ा बन रहा है चीन, NPT का मुद्दा उछाला

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 9 Jun 2016 11:49 PM GMT

NSG में भारत की राह का रोड़ा बन रहा है चीन, NPT का मुद्दा उछाला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

वियनाः चीन एक बार फिर न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (एनएसजी) में भारत को शामिल करने की राह में रोड़ा बन रहा है। चीन ने परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) पर दस्तखत न करने का मुद्दा उछाला है। उसका कहना है कि भारत अगर ग्रुप में शामिल किया जाता है तो पाकिस्तान को भी सदस्यता देनी चाहिए। पहले भी चीन यही मुद्दा उछालकर भारत की सदस्यता की राह में रोड़ा अटका चुका है।

क्या है चीन का रुख?

-चीन ने साल 2008 में भी भारत को एनएसजी में लेने का विरोध किया था।

-उस वक्त भी उसने एनपीटी पर दस्तखत न करने का मुद्दा उछाला था।

-चीन चाहता है कि भारत के साथ पाकिस्तान को भी ग्रुप में मदद मिले।

कई और देशों का रुख भी साफ नहीं

-एनएसजी के कई और सदस्य देशों का रुख भी साफ नहीं है।

-इनमें तुर्की, आयरलैंड, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रिया शामिल हैं।

-न्यूजीलैंड पहले भी भारत के परमाणु कार्यक्रम पर सवाल उठाता रहा है।

सियोल में होगा फैसला

-20 जून को सियोल में एनएसजी के देशों की बैठक होनी है।

-अमेरिका, स्विटजरलैंड और मेक्सिको ने भारत के समर्थन की बात कही है।

-चीन के माने बगैर भारत को सदस्यता नहीं मिल सकेगी।

-एनएसजी में हर फैसला सभी ग्रुप मेंबरों के राजी होने पर ही लिया जाता है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story