×

मंच पर रो पड़े गैंगरेप के आरोपी गायत्री प्रजापति, अखिलेश ने जनता से उनके लिए मांगा वोट

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 20 Feb 2017 8:40 AM GMT

मंच पर रो पड़े गैंगरेप के आरोपी गायत्री प्रजापति, अखिलेश ने जनता से उनके लिए मांगा वोट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

अमेठी: अखिलेश सरकार में परिवहन मंत्री और गैंगरेप के आरोपी गायत्री प्रसाद प्रजापति अमेठी में मंच पर भाषण देते हुए रो पड़े। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी और अमित शाह ने मुझे मिलकर फंसाया है। यह पूरी साजिश उन्होंने रची है। मेरे ऊपर लगे सभी आरोप बेबुनियाद हैं। मैं सीएम अखिलेश यादव के साथ मंच शेयर नहीं करूंगा।

मैं जनता के बीच का आदमी हूं और अब उनके बीच ही रहूंगा। इसके बाद जब प्रजापति मंच से उतर गए तब सीएम अखिलेश उनके लिए वोट मांगने मंच पर गए और जनता से समाजवादी पार्टी को जिताने की अपील की। अमेठी में पांचवें चरण में 27 फरवरी को चुनाव होना है।

यह भी पढ़ें...गुजरात के गधों को लेकर अखिलेश भईया ने ली चुटकी, बोले- बच्चन साहब! ‘प्लीज डोंट डू दिस’

सुप्रीम कोर्ट ने क्या दिया था आदेश ?

सुप्रीम कोर्ट ने अखिलेश सरकार के परिवहन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के खिलाफ गैंगरेप और यौन उत्पीड़न केस में एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए थे। सुप्रीम कोर्ट ने इस केस पर यूपी सरकार से आठ हफ्तों के भीतर जवाब मांगा है। एफआईआर तो दर्ज हो गई है, लेकिन अब तक उन्हें अरेस्ट नहीं किया गया है।

वहीं, गायत्री प्रजापति ने गिरफ्तारी पर रोक के लिए सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की है। बता दें कि गायत्री प्रसाद इस चुनाव में अमेठी सीट से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार हैं। इसी सीट से कांग्रेस की अमिता सिंह भी चुनाव लड़ रही हैं। गायत्री प्रजापति को मुलायम सिंह यादव का करीबी माना जाता है।

यह भी पढ़ें...SC के दखल के बाद मंत्री गायत्री प्रजापति के खिलाफ रेप का मुकदमा दर्ज, लगा पॉक्सो एक्ट

क्या है मामला ?

पीड़िता मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के खिलाफ एफआईआर दर्ज न होने पर सुप्रीम कोर्ट गई थी। उसका कहना था कि उसके साथ गैंगरेप हुआ है और उसकी बेटी का भी यौन उत्पीड़न किया गया। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत एफआईआर दर्ज करने के आदेश दे दिए। इससे पहले उन पर आय से अधिक संपत्ति रखने, अवैध कब्जे, अवैध खनन समेत कई आरोप लग चुके हैं।

गायत्री को बर्खास्त कर चुके हैं अखिलेश

सितंबर 2016 में सीएम अखिलेश यादव ने पहली बार भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद गायत्री प्रजापति और राजकिशोर सिंह को बर्खास्त कर दिया था। गायत्री खनन मंत्री थे और उन पर अवैध खनन की गतिविधियों में शामिल होने का आरोप है। उन पर सीबीआई का शिकंजा कसने का संकेत मिलते ही सीएम अख‍िलेश ने उन्हें बर्खास्त कर दिया था। हालांकि, बाद में मुलायम सिंह यादव के कहने पर अखिलेश ने गायत्री को पार्टी में वापस लिया था।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story